hindi kavitaविशेष

बदलते रंग ….. नफ़रत के बदलते नए-नए रंग (हिन्दी कविता)

दलते हुए रंगों के साथ
बदलते हुए
अपने लोग देखे हैं।
चेहरे पर नकाब ओढ़े
सीने पर वार करते
अपने ही लोग देखे हैं।

हरे रंगों जैसी
अब लोगों के दिलों में
हरियाली कहाँ ?
अपने ही लोग
खंजर फेर
ह्रदय तल को
बंजर करते देखे हैं।

रंगों की बौछार
फैली है हर जगह
फिर भी
गिरगिट की तरह
रंग बदलते
अपने रिश्तेदार देखे हैं।

करते होंगे मोहब्बत वो
शायद किसी और से,
हमने अपने लिए तो
उनके चेहरे पर
नफ़रत के बदलते
नए-नए रंग देखे हैं।

पूरा ख़बर पढने के लिए क्लिक करें

राजीव डोगरा

राजीव डोगरा (भाषा अध्यापक) गवर्नमेंट हाई स्कूल ठाकुरद्वारा पता-गांव जनयानकड़ पिन कोड -176038 कांगड़ा हिमाचल प्रदेश
Back to top button
viral video