लापरवाही : गलत इलाज के लिए डॉक्टर के खिलाफ FIR ! जानिए पूरा मामला

Medical Negligence : मध्यप्रदेश के इंदौर में एक डॉक्टर के खिलाफ इलाज में लापरवाही के आरोप में मामला दर्ज किया गया। आरोप है की डाक्टर के लापरवाही के कारण मरीज का पैर कट (amputation of the patient’s foot) गया। 

टीआई सतीश द्विवेदी के अनुसार द्वारकापुरी निवासी कुमार सिंह यादव की शिकायत पर सुदामा नगर के डॉक्टर कमल मौर्य के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। 

कुमार ने पुलिस को बताया कि उनके खून में शर्करा का स्तर बढ़ने के कारण उनका दाहिना पैर का अंगूठा और एक उंगली काली हो गई थी। उन्होंने इलाज के लिए जून 2021 में चोइथराम मंडी के पास क्लिनिक चलाने वाले डॉक्टर कमल से संपर्क किया। 

डॉक्टर ने निदान किया कि उसे गैंग्रीन है और उसे एक क्रीम लगाने के लिए कहा। मौर्य ने कुमार को 15 दिनों तक अपने पैरों पर क्रीम लगाने का निर्देश दिया। डॉक्टर मौर्य भी रोज उनके घर क्रीम लगाने आते थे। लेकिन कुमार का पैर का अंगूठा 15 दिन में ठीक नहीं हुआ। फिर, डॉ कमल ने उसे अगले 15 दिनों के लिए और क्रीम लगाने के लिए कहा।

कुमार ने अपनी शिकायत में कहा कि जून से अक्टूबर के बीच डॉक्टर मौर्य इलाज के लिए उनके घर आते रहते थे। लेकिन अक्टूबर तक कुमार के पैर की अन्य उंगलियां भी संक्रमित हो गईं।

पुलिस ने कहा कि कुमार दूसरे अस्पताल गए थे। वहां जांच के बाद डॉक्टर ने उनके पैर काटने का सुझाव दिया, जिस पर कुमार राजी हो गए। 

कुमार ने आरोप लगाया कि पैर काटने के बाद भी डॉक्टर मौर्य अस्पताल आए और घाव पर कुछ स्प्रे कर पैर का इलाज किया। डॉक्टर मौर्य अगले एक पखवाड़े तक कुमार का इलाज करने के लिए उनके घर आते रहे, लेकिन आखिरकार कुमार ने उनसे और इलाज कराने से इनकार कर दिया। इसके बाद उन्होंने पुलिस में डॉक्टर मौर्य द्वारा इलाज में लापरवाही की शिकायत की। 

पुलिस ने कहा कि कुमार के दो बेटे कुणाल और ईशान हैं। कॉलेज में डॉ कमल मौर्य के बेटे के साथ ईशान की दोस्ती थी और ईशान के दोस्त ने उसे बताया था कि उसके पिता एक डॉक्टर हैं और वह अपने पिता का इलाज कर सकता है।