बिज़नेस न्यूज़

पेट्रोल पंप दिलवाने का झांसा देकर 50 लोगों से ठगे लगभग 1 करोड़ रुपए

कम कीमत पर रिलायंस का पेट्रोल पंप दिलवाने के नाम पर लोगों को झांसा देकर पैसे ठगने वाले गिरोह का खुलासा मध्यप्रदेश के भिंड पुलिस ने किया है।ये ठग लोगों को अच्छी-ख़ासी चपत लगा देते थे। आरोपी और फरियादी दोनों उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं।

क्या है पूरा मामला

कुछ दिन पहले उत्तर प्रदेश के बाराबंकी निवासी रिषभ जैन ने रिलायंस पेट्रोलियम लिमिटेड नाम से वेबसाइट देखी थी। इस पर उन्होंने कम कीमत में पेट्रोल पंप खोलने की बात लिखी देखी। जब रिषभ ने वेबसाइट पर दिए गए टोल फ्री नंबर पर कॉल की तो उनकी कुछ लोगों से बात हुई। इसके बाद, इसी काम के सिलसिले में तीन लोग रिषभ से मिले। इन ठगों ने पेट्रोल पंप को दिलवाने की प्रक्रिया के बहाने रिषभ से 5 लाख रुपए कई खातों में जमा करवा लिए। कुछ दिन बीत जाने के बाद भी जब काम नहीं हुआ तो व्यापारी ने इन्हें फोन किया तो उन्हें कहा गया कि टेंडर उठने से पहले आपको 15 लाख रुपए जमा कराने होंगे।

कैसे पकड़ाया ठग 

इस बात पर व्यापारी रिषभ को संदेह हुआ। इसके बाद ठगों ने पम्प का टेंडर उठने से पहले व्यापारी को टेंडर का सर्टिफिकेट देने की बात कहकर उसे भिंड मिलने के लिए बुलाया। रिषभ ने संदेह होने के चलते यहां के एसपी मनोज कुमार सिंह को पहले ही सूचना दे दी थी। ठग जैसे ही गाड़ी में सवार होकर पहुंचे, पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया। इन तीन ठगों में एक महिला भी शामिल है। उनके पास से 22 लाख रुपए बरामद किये गए हैं।

कौन है आरोपी 

पुलिस ने बताया कि यह सभी आरोपी साइबर गिरोह के रूप में काम कर रहे थे। आरोपी आसिफ खान पुत्र नासिर खान निवासी झांसी, आकाश सिंह पुत्र पूरन सिंह निवासी महोबा, नेहा सिंह पत्नी आकाश सिंह निवासी महोबा हैं। इनके सभी के पास से पास 3.7 लाख रुपए नकद, 8 एटीएम कार्ड, 9 मोबाइल व दर्जनों सिम कार्ड मिले हैं।

न्यूज़ डेस्क,

उर्जांचल टाईगर (राष्ट्रीय हिन्दी मासिक पत्रिका) के दैनिक न्यूज़ पोर्टल पर समाचार और विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें। व्हाट्स ऐप नंबर -7805875468 मेल आईडी - editor@urjanchaltiger.in
Back to top button