Chhath Puja : छठ पूजा में उगते सूर्य को क्यों दिया जाता है अर्घ्य ?

Chhath Puja 2021 : उगते सूर्य देव को प्रसाद चढ़ाने के साथ आज छठ पूजा (Chhath puja) का समापन हो गया है। वैसे तो प्रतिदिन सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है, लेकिन छठ पूजा में सूर्य देव को अर्घ्य देने का विशेष महत्व है।

Chhath Puja – छठ पूजा में उगते हुए सूर्य को क्यों दिया जाता है अर्घ्य ?

छठ पूजा(Chhath Puja) में डूबते सूरज यानी डूबते सूरज को अर्घ्य दिया जाता है। ऐसा माना जाता है कि शाम के समय सूर्य देव अपनी पत्नी देवी प्रत्यूषा के साथ समय बिताते हैं। इसी कारण शाम के समय डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य देकर सूर्य के साथ-साथ देवी प्रत्यूषा की भी पूजा की जाती है। इस तरह व्रत की मनोकामना तुरंत पूरी होती है।

Chhath Puja Vidhi: छठ पूजा के दौरान क्या किया जाता है, जानिए विधि से लेकर जरूरी सामाग्री तक सब कुछ

Chhath Puja 2022: छठ पूजा के दौरान भूल कर भी न करे ये गलती, छठी मैया हो जाएंगी नाराज

यह भी माना जाता है कि सूर्य को अर्घ्य देने  से कुंडली में सूर्य की स्थिति मजबूत होती है। छठ पूजा के अंतिम दिन उगते सूर्य कोअर्घ्य दिया जाता है। इस दिन पूरा परिवार घाट पर पहुंचता है और सूर्य देव और छठी मैया की पूजा करता है।Chhath Puja 2022

अर्घ्य में सूर्य देव को जल और दूध का भोग लगाया जाता है। सूर्य पूरे ब्रह्मांड को ऊर्जा देता है। सूर्य को जल चढ़ाने के कई फायदे हैं।

ऐसा माना जाता है कि सूर्य को अर्घ्य देने से सौभाग्य की प्राप्ति होती है। सूर्य को निडर और निर्भीक ग्रह माना जाता है।

इसी आधार पर सूर्य को अर्घ्य देने वाले भक्तों को भी यह गुण प्राप्त होता है। साथ ही राशि चक्र में सूर्य की स्थिति मजबूत होती है।

सूर्य को अर्घ्य देने से भी शनि की बुरी नजर का प्रभाव कम होता है। सूर्य देव को अर्ध्य देने से बुद्धि पर प्रभाव पड़ता है और मान-सम्मान में वृद्धि होती है।

Chhath Puja 2022 Special Train : बिहार समेत इन राज्यों के लिए चलेंगी 179 जोड़ी स्पेशल ट्रेनें

Viral Video