छत्तीसगढ़ : गौ-मूत्र बेच कर CM भूपेश बघेल ने कमाए 20 रूपए।

छत्तीसगढ़ गौ-मूत्र की खरीदी करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है। हरेली पर्व के मौके पर छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने चंद्रखुरी के निधि स्व सहायता समूह को 5 लीटर गौ-मूत्र बेचकर इसकी शुरुआत की। उन्हें 4 रु प्रति लीटर की दर से 5 लीटर गौ-मूत्र के 20 रूपए मिले। इसके साथ ही वह गौ-मूत्र बेचने वाले राज्य के पहले विक्रेता बन गए।


  • सवाल –  गौ-मूत्र खरीदने वाला पहला राज्य कौन है ? 

  • जवाब  – छत्तीसगढ़ 

  • सवाल  – गौ-मूत्र बेचने वाला पहला विक्रेता का नाम ?

  • जवाब – छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल


आपको बता दें, आज से 2 वर्ष पहले 20 जुलाई 2020 को हरेली पर्व के दिन छत्तीसगढ़ में “गोधन न्याय योजना” की शुरुआत की गई थी। इस योजना के तहत पिछले 2 वर्षों से पशु पालन करने वाले ग्रामीणों से ₹2 प्रति किलो की दर से गोबर की खरीदी की जा रही है। और अब इसी योजना के तहत हरेली पर्व के दिन ही गौ-मूत्र खरीदी की शुरुआत की गई है। इस मौके पर सीएम ने राजधानी में स्थित मुख्यमंत्री आवास पर चंद्रखुरी के निधि स्व सहायता समूह को ₹4 प्रति लीटर की दर से 5 लीटर गौ-मूत्र बेचकर इसकी शुरुआत की। मुख्यमंत्री के आग्रह पर समूह ने विक्रय की यह राशि मुख्यमंत्री सहायता कोष में जमा कर दी।

सीएम ने इस अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए कहा, गोधन न्याय  योजना की सफलता को देखते हुए देश के कई राज्य इसे अपना रहे हैं। इस योजना के माध्यम से अमीर व गरीब सभी गौठानों में ₹2 प्रति किलो की दर से गोबर बेच रहे हैं। तथा बीते 2 सालों में इस योजना के माध्यम से गोबर विक्रेताओं, गौठान समितियों व महिला समूह के खाते में 300 करोड़ रुपए से अधिक की राशि प्राप्त हुई है। और अब इसी क्रम में ₹4 प्रति लीटर की दर से गौ-मूत्र खरीदने की शुरुआत की गई है।

छत्तीसगढ़ : गौ-मूत्र बेच कर CM भूपेश बघेल ने कमाए 20 रूपए।

इस योजना का मकसद खेती-किसानी को समृद्ध बनाने के साथ-साथ जैविक खाद व कीटनाशकों को बढ़ावा देना, और खाद्यान्न की गुणवत्ता को बेहतर बनाना है। ताकि किसान खुशहाल हो और जनजीवन का स्वास्थ्य बेहतर हो।

हमारे इस पहल से राज्य में पशुपालन संरक्षण और संवर्धन साथ ही पशुपालकों व किसानों की आय और जैविक खेती को बढ़ावा मिलेगा। गोबर खरीदी के माध्यम से पिछले 2 सालों में जैविक खेती को बढ़ावा मिला है। अब गौ-मूत्र खरीदी करने का हमारा उद्देश्य जैविक कीटनाशक, जीवामृत व ग्रोथ प्रमोटर का निर्माण करना है। ताकि राज्य के किसानों को आसानी से कम कीमत पर जैविक कीटनाशक उपलब्ध हो सके।

#एंटेरटेनमेंट     #सरकारी योजना    #काम की खबरें

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ेंने के लिए उर्जांचल टाईगर हिंदी पर विजिट कीजिए। आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ने के लिए सबसे विश्वसनीय Google News हिंदी को सबस्क्राइब कीजिए। 

Viral Video