Diwali 2022 : धनतेरस से दीपावली तक ऐसे करें पूजा !

Diwali 2022 : हिंदू धर्म शास्त्रों में पांच दिवसीय दीपावली महोत्सव का विशेष महत्व होता है। हमेशा की तरह इस वर्ष भी महापर्व की शुरुआत धनतेरस से हो रही है और इसका समापन गोवर्धन पूजा के साथ होगा। ज्योतिष शास्त्री पंडित रवींद्र पांडेय के अनुसार दीपावली के दिन माँ लक्ष्मी के साथ धन के देवता भगवान कुबेर की विशेष उपायों के साथ विधि-विधान पूर्वक पूजा-अनुष्ठान करने से माँ लक्ष्मी प्रसन्न होकर जातक को सुख-समृद्धि के साथ पूरे वर्ष मान-सम्मान प्रदान करती हैं। इसकी पूजा विशेष रूप में धनतेरस से लेकर भाई दूज तक नियमित रूप से करना चाहिए।

धनतेरस से दीपावली तक ऐसे करें पूजा

इस पावन पर्व धनतेरस को कार्तिक मास कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी के दिन विशिष्ठ पूजा होती है। सूर्योदय से पहले उठकर स्नानादि से निवृत्त होकर माँ लक्ष्मी एवं भगवान कुबेर का ध्यान करते हुए सच्ची निष्ठा से पूजा का संकल्प लेते हुए मनोवांछित फल की कामना करें। एक छोटी चौकी पर गंगाजल का छिड़काव करने के बाद लाल वस्त्र बिछाकर इसे ईशान कोण में रखें और माता लक्ष्मी एवं भगवान धन्वंतरी की प्रतिमा अथवा तस्वीर स्थापित कर इसके साथ ही दक्षिणावर्ती शंख भी रखें। उसके बाद चौकी के सामने पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुंह करके बैठें और गाय के दूध से बने शुद्ध घी का दीप एवं धूप प्रज्वलित करें। मां लक्ष्मी एवं भगवान धन्वंतरी का ध्यान करते हुए निम्न श्लोक का स्मरण करते हुए प्रतिमा को लाल रंग का पुष्प अर्पित करें।

ऊं ह्रीं ह्रीं ह्रीं महालक्ष्मी धनदा लक्ष्मी कुबेराय मम गृहे स्थिरो ह्रीं ऊं नमः

पूजा स्थल पर रखे शंख में गंगाजल के साथ शुद्ध जल भरे और स्थल पर केसर से स्वास्तिक चिन्ह बनाएं। उसके बाद बनाये गए चिन्ह पर रोली या सिंदूर से टीका लगाकर वहां पर पान, सुपारी, कमल का पुष्प, बतासा, मिठाई, फल अर्पित करें और स्फटिक की माला फेरते हुए निम्न मंत्र का 108 जाप करें।

ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं श्री सिद्ध लक्ष्म्यै नम:

पूजा समापन के दौरान लक्ष्मी जी की आरती करने के बाद प्रसाद को साभी लोगों को वितरित कर दें।

Viral Video