Kaivalya Vohra Zepto : एक साल में 19 साल का लड़का बना भारत का सबसे युवा अरबपति !

देश के आज युवा स्टार्टअप्स की दुनिया में तेजी से सफलता के कदम को चूम रहे हैं। जेप्टो (Zepto) के फाउंडर 19 साल में ही बड़ी कामयाबी हासिल की। सबसे कम उम्र के भारतीय कैवल्य वोहरा (Kaivalya Vohra) देश में करोड़पतियों की लिस्ट में शामिल होने वाले बन गए हैं।

IIFL Wealth Hurun India Rich List 2022 वेल्थ हुरुन इंडिया रिच लिस्ट 2022 के अनुसार, कैवल्य वोहरा (Kaivalya Vohra) की कुल संपत्ति 1,000 करोड़ रुपये की है। उनकी ही टीम के साथी आदित पालीचा (Aadit Palicha) के पास सिर्फ 20 साल साल की उम्र में ही 1,200 करोड़ रुपये की निजी संपत्ति है।

कैवल्य वोहरा (Kaivalya Vohra) और आदित पालीचा कौन हैं ?

भारत में उन्होंने कोरोना वायरस संकट के बीच तेजी से बढ़ते ऑनलाइन ग्रॉसरी डिलीवरी सेक्टर में काम करने का फैसला लिया था। स्टैनफोर्ड के वोहरा और पालीचा छात्र होने के साथ दोनों बचपन के दोस्त भी थे और दोनों दुबई में पले-बढ़े। जिन्होंने विश्वविद्यालय के कंप्यूटर साइंस कोर्स को कारोबार के लिए छोड़ने का फैसला किया था।

मोटी रकम फंडिंग से कैसे जुटाई?

शुरुआत के दौर में उनके उद्योग-धंधा का नाम किरानाकार्ट (KiranaKart) था, उसके बाद उन्होंने एक ऐसा मंच चुना जिसने किराने की दुकानों के साथ ऑनलाइन डिलीवरी करने के लिए पार्टनरी किया। उसके बाद इसे Zepto के नाम से जाना गया और उसने फंडिंग में 60 मिलियन डॉलर नवंबर 2021 में जुटाए। जिसके बाद प्लेटफॉर्म ने 10 मिनट की ग्रॉसरी डिलीवरी का वादा किया। उसके बाद इसने दिसंबर में एक और फंडिंग राउंड में 100 मिलियन डॉलर जुटाए जिससे इसकी कीमत 570 मिलियन डॉलर पर आ गई। इस साल जेप्टो को मई तक में 200 मिलियन डॉलर की फंडिंग मिली जिससे इसका मूल्य 900 मिलियन डॉलर तक पहुंच गया।

संस्थापक वोहरा और पलीचा को भारत के सबसे अमीर युवाओं में से कंपनी के मूल्यांकन में 50 फीसदी से ज्यादा की वृद्धि में से इन्हें एक बना दिया। वोहरा को अमीरों की लिस्ट में आने पर हुरुन रिसर्च इंस्टीट्यूट ने कहा कि यह भारत में स्टार्टअप्स के बढ़ते प्रभाव को दर्शाता है। पलीचा की स्टार्टअप यात्रा 17 साल की उम्र में शुरू हुई थी जब उन्होंने दुबई में एक कारपूल एप्लिकेशन GoPool की स्थापना की थी।

Viral Video