मध्यप्रदेश हिंदी न्यूज़ 

मध्यप्रदेश में सार्वजनिक स्थलों पर वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट बन सकता है प्रवेश का आधार

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि सार्वजनिक स्थलों पर वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट देखने के उपरांत ही प्रवेश देने की व्यवस्था पर भी विचार किया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि टीका लगाने वाले व्यक्ति को किसी भी सार्वजनिक स्थान में प्रवेश करने के लिए प्रमाण पत्र दिखाना होगा। चौहान ने सोमवार को कैबिनेट मंत्रियों के साथ बैठक में यह बयान दिया। चौहान ने कहा च्च जोखिम वाले समूहों को प्राथमिकता के आधार पर टीके की दोनों डोज़ लगाई जाएँ। जिन शासकीय अधिकारियों-कर्मचारियों ने टीके की प्रथम डोज लगवा ली है और पात्र अवधि के बाद भी यदि उनके द्वारा दूसरी डोज़ नहीं लगवाई गई है तो ऐसे अधिकारी-कर्मचारियों पर कार्यवाही की जाएगी।


पढिए : हेलमेट को लेकर मोदी सरकार का बड़ा फैसला,जानिए क्या ?


उन्होने कहा,टीकाकरण का अभियान व्यक्ति और समाज की भलाई के लिए है। टीके की दूसरी डोज़ नहीं लगवाना समाज के लिए अपराध के समान हैं।

CM चौहान ने कहा कि जिन लोगों ने पहली खुराक ली है और दूसरी खुराक लेनी बाकी है, उनकी पहचान की जानी चाहिए और उनका टीकाकरण किया जाना चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि जो लोग कोचिंग क्लास चला रहे हैं, वे यह सुनिश्चित करें कि उनके शत-प्रतिशत छात्रों का टीकाकरण हो।


पढिए : प्रेमी ने दस साल बड़ी प्रेमिका को दस साल साथ निभाने के बाद मार कर रसोई में दफना दिया। 


45 वर्ष से अधिक आयु वालों को विशेष शिविरों में टीका लगाया जाना चाहिए। चौहान ने कहा कि 13 जिलों और 66 नगर पंचायतों के शत-प्रतिशत निवासियों का टीकाकरण किया जा चुका है।

उन्होंने कुछ जिलों में कम संख्या में लोगों का टीकाकरण किए जाने पर रोष जताया। उन्होंने स्पष्ट किया कि सरकार टीकाकरण कार्य में लापरवाही बर्दाश्त नहीं करेगी।

पूरा ख़बर पढने के लिए क्लिक करें

न्यूज़ डेस्क,

उर्जांचल टाईगर (राष्ट्रीय हिन्दी मासिक पत्रिका) के दैनिक न्यूज़ पोर्टल पर समाचार और विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें। व्हाट्स ऐप नंबर -7805875468 मेल आईडी - editor@urjanchaltiger.in
Back to top button