मध्यप्रदेश

भूख की लाचारी, कचरे के ढेर से खाना ढूंढ कर एक साथ खाते बुजुर्ग और कुत्ता!

भूख की लाचारी, कचरे के ढेर से खाना ढूंढ कर एक साथ खाते बुजुर्ग और कुत्ता! मध्यप्रदेश के बैतूल जिले से भुखमरी की एक ऐसी तस्वीर सामने आई है। जिसने सरकारी वादों और दावों की पोल खोल कर रख दी है। तस्वीर में एक बुजुर्ग कुत्तों के साथ कूड़े के ढेर में से खाना ढूंढ कर खाते हुए नजर आ रहा है।


प्राप्त जानकारी के अनुसार यह घटना बैतूल जिले के मुलताई तहसील में स्थित एक कन्या शाला के सामने की है यहां एक बुजुर्ग कई दिनों से भूखा था। भूख से परेशान होकर बुजुर्ग गंदगी और बदबू से भरे कचरे के ढेर में खाना तलाश कर रहा था। उसे जब बदबूदार कचरे के ढेर में कुछ सड़ा गला बासी खाना मिला तो उसने उसे वहीं बैठ कर खाना शुरु कर दिया। तस्वीर में देखा जा सकता है, कि बुजुर्ग के बगल में एक कुत्ता भी उसी ढेर में से खाना तलाश रहा था।

भूख की लाचारी, कचरे के ढेर से खाना ढूंढ कर एक साथ खाते बुजुर्ग और कुत्ता!इसी दौरान वहां से गुजर रहे एक किसान की नजर उस भूखे बुजुर्ग पर पड़ी। यह सब देख कर किसान स्तब्ध रह गया।उस किसान ने भूखे बुजुर्गों को गंदगी में खाने से रोका, और अपने पास बुलाया। पूछने पर मालूम पड़ा कि, वह बुजुर्ग व्यक्ति तमिलनाडु का रहने वाला है। और उसे हिंदी नहीं आती थी। फिर किसान भूखे बुजुर्ग को अपने साथ ले गया। उसे भरपेट भोजन कराया और कुछ पैसे भी दिए। बुजुर्ग व्यक्ति चेन्नई जाना चाहता था।

इस घटना के बाद किसी भी प्रतिनिधि या समाजसेवी ने न तो उस भूखे बुजुर्ग की सुध ली। और ना यह जानने की कोशिश नहीं की, कि वह व्यक्ति कौन था, और कहां से आया था। सरकार द्वारा चलाई जा रही अन्नपूर्णा योजना और दाल भात केंद्र कितने सफल है। यह इस तस्वीर से अंदाजा लगाया जा सकता है।


जरूर पढिए –

न्यूज़ डेस्क

उर्जांचल टाईगर (राष्ट्रीय हिन्दी मासिक पत्रिका) के दैनिक न्यूज़ पोर्टल पर समाचार और विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें। व्हाट्स ऐप नंबर -7805875468 मेल आईडी - editor@urjanchaltiger.in
Back to top button