मध्यप्रदेशसिंगरौली समाचार

सिंगरौली ; पिता,बेटी का शव खाट पर रख पीएम कराने 20 किमी पैदल चला, जानिए पूरा सच ?

धर्मेंद्र शाह

सिंगरौली सरई थाना अंतर्गत निवास चौकी क्षेत्र के गौरवपानी गांव की नाबालिक लड़की का शव पिता ने खाट पर ले जाकर कराया पोस्टमार्टम  नामक शीर्षक से सोशल मीडिया पर चली ख़बर को जहां पिता ने सही कहा वहीं परिजनों ने इसे भ्रामक बताया।

जानकारी के मुताबिक मृतक लड़की का नाम पार्वती सिंह पिता धिरुपति सिंह है जो गौरवपानी(परासी) के निवासी हैं।

मृतक लड़की के पिता का आरोप है कि,सरकार की कमियों के चलते आज तक हमारे गांव में सड़क नहीं बना है जिसके चलते हम अपनी लड़की के शव का पोस्टमार्टम कराने हेतु खाट पर लाने के लिए मजबूर हो गए।


परिजनों ने सोशल मीडिया पर प्रसारित ख़बर को बताया झूठा।


मृतक पार्वती सिंह मंदबुद्धि की थी जिसकी मृत्यु साजापानी के जंगल में फांसी लगाने से हुई। मृतिका के शव के पोस्टमार्टम हेतु परिजनों ने खाट के माध्यम से लगभग 35 किलोमीटर पोस्टमार्टम रूम तक ले गये। जैसे ही पोस्टमार्टम हो गया। शव को उनके घर तक छोड़ने के लिए निवास पुलिस ने की सहयोग।


सोशल मीडिया पर खबर चल रही थी जिसका खंडन अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनिल सोनकर व सरई थाना प्रभारी ने की।


उन्होंने बताया कि 09.05.2021 को सोशल मीडिया में प्रसारित बेटी का शव खाट पर रख 20 किलोमीटर पैदल चलकर पीएम कराने पहुंचे। परिजन के शीर्षक से प्रसारित खबर असत्य एवं भ्रामक है। 

इस संबंध में थाना प्रभारी सरई संतोष तिवारी द्वारा बताया गया कि दिनांक 5 मई 2021 की रात 8:15 बजे पुलिस चौकी निवास थाना सरई में फरियादी धीरपति सिंह पिता गोविंद सिंह ने सूचित किया कि उसकी लड़की पार्वती सिंह उम्र 14 वर्ष गौरापानी जंगल में साजापानी पगडंडी के पास फांसी लगा ली। सूचना पर मर्ग कायम कर चौकी प्रभारी निवास अरुण सिंह पुलिस बल के साथ घटनास्थल पहुंचकर पंचनामा कार्रवाई के उपरांत पार्वती का शव पोस्टमार्टम हेतु प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया। और पोस्टमार्टम के उपरांत शव को उसके साथ वापस उसके गांव ट्रैक्टर के माध्यम से पहुंचाया गया।

क्या है सच ?

उल्लेखनीय है कि थाना चौकी निवास से मृतका का गांव गौरापानी , (परासी) की दूरी 6 किलोमीटर है। वहां से घटनास्थल लगभग 4 किलोमीटर दूर साजापानी जंगल में था। जहां मार्ग के अभाव में पैदल ही आवागमन होता है। वाहन के पहुंचने का कोई मार्ग घटनास्थल तक नहीं है। इसलिए मृतका पार्वती सिंह का शव खटोली से गांव तक लाया गया।

इसके पश्चात बल्लू मिश्रा निवासी ग्राम निवास के ट्रैक्टर क्रमांक एमपी 53 A A 3262 में शव को रखकर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भेजा गया। और पोस्टमार्टम उपरांत उसी ट्रैक्टर से मृतका के घर पहुंचा गया। इस दौरान थाना प्रभारी संतोष तिवारी व सरई तहसीलदार भी मौके पर उपस्थित रहे।


20 किलोमीटर पैदल चलकर पीएम कराने पहुंचे परिजन भ्रामक एवं असत्य है।


मृतिका के गांव गौरवपानी से 4 किलोमीटर दूर जंगल में स्थित घटनास्थल तक वाहनों के आवागमन हेतु कोई मार्ग उपलब्ध ना होने के कारण शव को ग्राम गौरापानी तक क्षेत्र के परंपरागत तरीके खटोले में रखकर लाए गया। उसके पश्चात मृतिका के गांव में पीएम कराने एवं वापस गांव छोड़ने हेतु सरई पुलिस द्वारा वाहन की व्यवस्था की गई। सोशल मीडिया में प्रसारित खबर बेटी का शव खाट पर 20 किलोमीटर पैदल चलकर पीएम कराने पहुंचे परिजन भ्रामक एवं असत्य है।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सिंगरौली


 

पूरा ख़बर पढने के लिए क्लिक करें
Back to top button