मध्यप्रदेशविशेष

मध्यप्रदेश : इस जिले की महिलाएं 10 रु से शुरुआत कर अब 3000 रु कमा रहीं हैं।

मुरैना (मध्य प्रदेश): रोजगार एक बड़ी समस्या है लेकिन इसे हल करने के तरीके भी हैं बशर्ते इच्छाशक्ति और दृढ़ता हो। इस संकल्प का एक उदाहरण मध्य प्रदेश के मुरैना जिले के गोठ गाँव की महिलाएँ हैं। उन्होंने झाड़ू बनाकर ‘आत्मनिर्भर’ या ‘Aatmanirbhar‘ बनने का अभियान शुरू किया है।

अब ये महिलाएं झाड़ू बनाकर हर महीने 3,000 रुपये तक कमाती हैं। उन्होंने पहले कुछ धन एकत्र किया और फिर मध्य प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन से सहायता प्राप्त की। इसके बाद, महिलाओं ने झाड़ू बनाना शुरू कर दिया जिसके कारण उनका जीवन पूरी तरह से बदल गया है।

गोठ में माया आजीविका स्वयं सहायता समूह की अध्यक्ष अल्पना तोमर ने कहा कि इस समूह का गठन 2019 में राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के सहयोग से किया गया था।

इस जिले कि महिलाएं Aatamanirbher बनने के लिए 10 रु से की शुरुआत

समूह ने प्रत्येक सप्ताह सभी महिलाओं से 10 रुपये एकत्र किए और एकमुश्त 10,200 रुपये बैंक में जमा किए। फिर, उन्होंने एक आजीविका निधि के रूप में आजीविका मिशन से 1 लाख रुपये प्राप्त किए। इसके अलावा, स्वयं सहायता समूह को एक ग्रामीण संगठन से 50,000 रुपये भी मिले।

अल्पना तोमर ने कहा कि समूह ने 1,50,000 रुपये की शुद्ध आय अर्जित की। उन्हें विभिन्न ट्रेडों में प्रशिक्षण दिया गया, जिनमें से ‘माया लाइवलीहुड सेल्फ-हेल्प ग्रुप’ ने अपने लिए झाड़ू बनाने का उद्योग चुना। सभी महिलाओं ने इंदौर से झाड़ू बनाने के लिए कच्चा माल खरीदा। बाजारों में अब 4 रुपये प्रति झाड़ू पर उपलब्ध होने से स्थानीय स्तर से झाड़ू की बिक्री शुरू हो गई है।

अब हर महीने कमाती हैं 3,000 रुपये

धीरे-धीरे, प्रत्येक महिला ने 3,000 रुपये की मासिक आय अर्जित करना शुरू कर दिया। ये महिलाएं घर का काम खत्म करने के बाद झाड़ू बनाती हैं और अपनी कमाई का इस्तेमाल अपने परिवार की मदद के लिए करती हैं। इससे महिलाओं के वित्तीय उत्थान के साथ-साथ उनके जीवन स्तर को सुधारने में मदद मिली है।

पूरा ख़बर पढने के लिए क्लिक करें

शबाना परवीन

उर्जांचल टाईगर (राष्ट्रीय हिन्दी मासिक पत्रिका) के दैनिक न्यूज़ पोर्टल पर समाचार और विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें। व्हाट्स ऐप नंबर -7805875468 मेल आईडी - editor@urjanchaltiger.in
Back to top button