NEWSभारत दर्शन

दीपावली के दूसरे दिन क्यों होता है मौत का खेल !

विज्ञापन

मध्यप्रदेश के उज्जैन अलग-अलग परम्पराओं से सजा हुआ गुलदशता है। लेकिन बड़नगर के ग्राम भिडावद में ऐसी वर्षों पुरानी खतरनाक परंपरा आज भी निभाई जा रही है।जिसे सुनकर आप दंग रह जाएंगे। उज्जैन में स्थित कुछ गांवों में सुबह गायों का पूजन किया जाता है। इसके बाद लोग जमीन पर लेटते हैं और उनके ऊपर से गायों को दौड़ा दिया जाता है। इससे उन्हें काफी चोट भी पहुंचती है लेकिन आज तक कोई बड़ी दुर्घटना नहीं हुई है।

मनोकामना के लिए मौत का खेल 

DIPAWALI 2020

लोगों का मानना है कि ऐसा करने से उनकी मनोकामना पूरी होती है। मान्यता है कि गाय में 33 करोड़ देवी-देवताओं का वास होता है। गायों के पैरों के नीचे आने से देवताओं का आशीर्वाद मिलता है। इस परंपरा को निभाने के लिए लोग पांच दिन तक उपवास रखते हैं। दीपावली के एक दिन पहले लोग गांव के माता मंदिर में रात गुजारते हैं। भजन कीर्तन होता है। पड़वा की सुबह गौरी पूजन किया जाता है। उसके बाद ढोल-बाजे के साथ गांव की परिक्रमा की जाती है। गांव की सभी गायों को मैदान में एकत्रित किया जाता है। दूसरी तरफ लोग जमीन पर लेटते हैं, फिर शुरू होता है परंपरा के नाम पर मौत का खेल। सैंकड़ों गायें इन लोगों को रौंदती हुई निकलती हैं। इसके बाद मन्नत मांगने वाले लोग खड़े होकर ढोल-ताशों की धुन पर नाचने लगते हैं। 

Adv.

न्यूज़ डेस्क, उर्जांचल टाईगर

उर्जांचल टाईगर (राष्ट्रीय हिन्दी मासिक पत्रिका) के दैनिक न्यूज़ पोर्टल पर समाचार और विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें। व्हाट्स ऐप नंबर -7805875468 मेल आईडी - editor@urjanchaltiger.in

Leave a Reply

Back to top button
Close
Close