NEWSबॉलीवुड

जीवन में हंसी और मस्ती के रंगों को भरने की कोशिश जरूर किया जाना चाहिए। 

मध्य प्रदेश के स्वर्गीय बॉलीवुड हास्य अभिनेता सैयद इश्तियाक अहमद जाफरी, जिन्हें दुनिया जगदीप नाम से जानती है। वे 2020 में दुनिया को अलविदा कह गए थे। लेकिन उनका न भूलने वाला अदाकारी और ज़िंदादिली व्यक्तित्व का रंग उनके चाहने वालों के दिलों में आज भी कायम है।

1975 की फ़िल्म ‘शोले’ में वह अपने पान के दाग वाली मुस्कराहट और शरारती आँखों के लिए “सुरमा भोपाली” के रूप में लोकप्रिय थे।

29 मार्च, 1939 को मध्य प्रदेश के दतिया में जन्मे, पूरी दुनिया में मशहूर कॉमेडियन एक बाल कलाकार के रूप में अपने अदाकारी के सफ़र की शुरुआत 1951 की फ़िल्म ‘अफसाना’ से की थी। सात दशकों से अधिक के अपने करियर में, स्टार ने ऐसे  यादगार प्रदर्शन किए, जो दर्शकों के दिलों में अभी भी मौजूद हैं।

रंगों के त्योहार होली (HOLI) की पहली कल्पना हंसमुख लोगों की है, जो सभी रंग और रंगों में रंगे हुए हैं, हंसते हैं और मस्ती करते हैं। लेकिन जैसे-जैसे दुनिया आधुनिक हो रही है, त्योहारों और अनुष्ठानों का सार धीरे-धीरे कम हो रहा है। यही कारण है कि अब होली के रंग हमारी आत्माओं तक नहीं पहुंचते हैं और हमारे जीवन को सही मायने में रंगीन बनाने के लिए लंबे समय तक नहीं टिकते हैं।आज इस कॉमिक स्टार की 82 वीं जयंती के अवसर पर आइए पढ़ते हैं, हंसी और मस्ती के जादूगर के बेहतरीन अदाकारी किस्से।

1980 में रिलीज़ एक्शन-थ्रिलर ‘क़ुर्बानी’ में, जिसमें ज़ीनत अमान और विनोद खन्ना भी थे, जगदीप ने यह किरदार निभाया था, जो बॉक्सर मुहम्मद अली का एक हास्य-व्यंग चित्रण था। दिग्गज मुक्केबाज का उनका चित्रण इतना लोकप्रिय हुआ कि अमेरिका में अभिनेता के प्रशंसकों द्वारा एक मस्जिद के लिए धन जुटाने के लिए दोनों के बीच एक नकली लड़ाई की इंतज़ाम किया गया।

1975 के ब्लॉकबस्टर फिल्म ‘शोले’ में जगदीप द्वारा एक छोटे से लकड़ी के व्यापारी का हास्य चित्रण, जो अपने ही तुरुप का इक्का का इस्तेमाल करता था, एक यादगार था। वास्तव में, यह चरित्र दर्शकों के बीच इतना लोकप्रिय हो गया कि वर्ष 1988 में, चरित्र को पुनर्जीवित किया गया और ‘सुरमा भोपाली’ नामक एक स्पिन-ऑफ टाइप फीचर फिल्म रिलीज की गई, जिसमें जगदीप ने मुख्य भूमिका निभाई।

प्रसिद्ध कॉमेडियन और डांसर जावेद और नावेद जाफरी के पिता को उनके जीवनकाल में 400 से अधिक फिल्मों में चित्रित किया गया। हंसी और मस्ती के जादूगर बॉलीवुड हास्य अभिनेता सैयद इश्तियाक अहमद जाफरी की जगह ले ऐसा मुमकि तो नहीं लगता लेकिन जीवन में हंसी और मस्ती के रंगों को भरने की कोशिश जरूर  किया जाना चाहिए। 

पूरा ख़बर पढने के लिए क्लिक करें

अब्दुल रशीद

Abdul Rashid is a well-known Journalist, Political Analyst and a Columnist on national issue. Cont.No.-7805875468, Email - editor@urjanchaltiger.in
Back to top button