NEWS

प्रधानमंत्री से कहा, दूर हटो मेरी घास से

देश के प्रधानमंत्री से कोई कहे कि मेरी घास से दूर हटो, तो क्या होगा? ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री के साथ बिल्कुल यही हुआ।  प्रधानमंत्री को शर्मिंदगी भरे अंदाज में घास से हटना पड़ा। वैसे भारत में आप ऐसा किसी छुटभइए नेता से भी  ऐसा कह देंगे तो कयामत आ जाएगा !

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन घर के मालिकों के लिए अच्छी नीति पेश कर रहे थे। इसके लिए वह राजधानी कैनबरा से काफी दूर गूगॉन्ग कस्बे में पहुंचे. नए एलानों के लिए मॉरिसन ने एक रिहाइशी इलाका चुना। प्रधानमंत्री वहां घास पर खड़े होकर मीडिया को जानकारी देने लगे।

इसी दौरान घर का मालिक बाहर आया।  उसने प्रधानमंत्री और मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, “कृपया, हर कोई घास से हटिए.” प्रधानमंत्री का ध्यान फौरन इस बात पर गया. उन्होंने तुरंत हामी भरी और घास से हट गए।

लेकिन कुछ लोग घास पर ही रहे। लॉन और घर के मालिक ने फिर कहा, “मैंने हाल ही मैं ये घास दोबारा रोपी है.”

उसके बाद प्रधानमंत्री मॉरिसन खुद घास से हर चीज दूर करने की पहल करने लगे। प्रधानमंत्री ने सबको घास से हटाया. मालिक को धन्यवाद कहा।  पूरी संतुष्टि के बाद घर के मालिक से पीएम समेत सभी लोगों से आम शिष्टाचार के नाते “सॉरी मेट” कहा और फिर वह घर के भीतर चला गया।

कोरोना वायरस के बाद रोजगार बाजार और उद्योगों को पटरी पर लाने के लिए तमाम देश नई नीतियां लागू कर रहे हैं। ऐसी एक नीति के तहत ऑस्ट्रेलिया में सरकार घर में रेनोवेशन का काम कराने वालों को 25,000 ऑस्ट्रेलियन डॉलर देने का एलान कर चुकी है।

संदर्भ : DW

 

Adv.

न्यूज़ डेस्क, उर्जांचल टाईगर

उर्जांचल टाईगर (राष्ट्रीय हिन्दी मासिक पत्रिका) के दैनिक न्यूज़ पोर्टल पर समाचार और विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें। व्हाट्स ऐप नंबर -7805875468 मेल आईडी - editor@urjanchaltiger.in

Leave a Reply

Back to top button
Close
Close