NEWS

कोरोना काल में गलत और भ्रामक जानकारी ने ली सैंकड़ों की जान

कोरोना वायरस के बारे में गलत और भ्रामक जानकारी के कारण कम से कम 800 लोग की मौत हुई है। यह जानकारी अमेरिकन जर्नल ऑफ ट्रॉपिकल मेडिसिन एंड हाइजीन के ताजा शोध में सामने आई है।बीमारी से जुड़ा कलंक और अफवाहों की साजिश ने दुनिया भर में हजारों लोगों की तकलीफ़ों को बढ़ा दिया है।

शोधकर्ताओं के मुताबिक, “हमने कोविड-19 से जुड़ी अफवाहों पर ध्यान दिया, कलंक और साजिश की थ्योरी जो ऑनलाइन फैलाई जा रही थी, जिनमें फैक्ट चेकिंग वेबसाइट, फेसबुक, ट्विटर और ऑनलाइन न्यूज पेपर शामिल थे और हमने सार्वजनिक स्वास्थ्य पर उनके प्रभावों का अध्ययन किया। “

परिणाम से पता चला कि करीब-करीब 800 लोगों की मौत हो गई जब उन्होंने इस उम्मीद के साथ अत्यधिक गाढ़ी शराब पी ली कि यह शरीर को डिसइंफेक्ट कर देगी। मेथेनॉल पीने के कारण 5,900 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया और 60 लोगों की आंखो की रौशनी चली गई।

अफवाह और साजिश 

  • भारत में सैकड़ों लोगों ने संक्रमण को रोकने के लिए सोशल मीडिया पर झूठी जानकारी के कारण गाय का पेशाब पीया या गाय का गोबर खाया।
  • वैज्ञानिकों ने अन्य और अफवाहों पर शोध किया, जैसे कि लहसुन खाना, गर्म मौजे पहनना और छाती पर बत्तख की चर्बी को रगड़ने से बीमारी का इलाज होना शामिल है।
  • साजिश के सिद्धांतों पर भी वैज्ञानिकों ने अध्ययन किया। उदाहरण के लिए, महामारी एक जैविक हथियार है जिसे बिल गेट्स वैक्सीन के अधिक बिक्री के लिए वित्त पोषित कर रहे है।
  • अध्ययन में पाया गया कि कुछ एशियाई देशों में, महामारी को रोकने के लिए काम कर रहे स्वास्थ्यकर्मियों और संक्रमित नागरिकों को बदनाम करने की बार-बार कोशिश की गई है। नतीजतन उन्हें कई बार गालियां सुननी पड़ी और शारीरिक हमले सहने पड़े।
  • शोधकर्ताओं के मुताबिक, “महामारी के दौरान, एशियाई मूल के लोगों और स्वास्थ्य देखभाल श्रमिकों को दुर्भावनापूर्ण और शारीरिक रूप से नुकसान पहुंचाया गया। “

इस शोध के नतीजों के बाद वैज्ञानिकों ने सरकारों और अंतरराष्ट्रीय संगठनों से फेक न्यूज को फैलने से रोकने के लिए कड़ी कार्रवाई करने का आग्रह किया है। उन्होंने सोशल मीडिया कंपनियों के साथ सटीक जानकारी और सूचना के प्रसार में सहयोग की भी अपील की है।

Adv

न्यूज़ डेस्क, उर्जांचल टाईगर

उर्जांचल टाईगर (राष्ट्रीय हिन्दी मासिक पत्रिका) के दैनिक न्यूज़ पोर्टल पर समाचार और विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें। व्हाट्स ऐप नंबर -7805875468 मेल आईडी - editor@urjanchaltiger.in

Leave a Reply

Back to top button
Enable Notifications    OK No thanks