NEWSशिक्षा

9 वीं से 12 वीं तक के स्‍कूल खुलेंगे, गाइडलाइन हुआ जारी

कोरोना महामारी के चलते 05 महीने से अधिक समय से बंद स्‍कूल अब खुलने जा रहे हैं। आपको बता दें की जब अनलॉक 4 की गाइडलाइन जारी की थी, तो उसमें कहा गया था कि 21 SEP. से क्लास 9-12 के छात्रों के लिए स्कूल आंशिक रूप से खोले जा सकेंगे।अब स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने मानक संचालन प्रक्रिया (SOP) जारी की है।

स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि स्कूलों को चरणबद्ध तरीके से खोला जाएगा। स्कूल आने वाले सभी लोगों को स्वास्थ्य पर लगातार निगरानी रखनी होगी।जहां-तहां थूकने पर पाबंदी होगी। जारी SOP में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि स्कूल में राज्य हेल्पलाइन नंबर के साथ ही स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों के फोन नंबर भी प्रदर्शित किए जाएंगे।

  • सभी स्कूलों को हाइपोक्लोराइट सोलूशन से सैनिटाइज करने के निर्देश दिए गए।
  • जिन स्कूल का इस्तेमाल क्वारंटीन सेंटर के रूप में हुआ था, उन्हें आंशिक तौर पर खोले जाने से पहले अच्छी तरह से सैनिटाइज करने का निर्देश दिया गया है।
  • कंटेनमेंट जोन्स में रहने वाले शिक्षक या कर्मचारियों को स्कूल जाने की इजाजत नहीं है।
  • प्रयोगशाला से लेकर कक्षाओं तक के छात्रों के बैठने की ऐसी व्यवस्था करनी होगी कि उनके बीच कम से कम 6 फीट की दूरी को बरकरार रखा जाए।
  • क्लास 9-12 के छात्रों के पास फिजिकली और वर्चुअली दोनों तरह से क्लास अटेंड करने का विकल्प होगा।दोनों के लिए माता-पिता की लिखित इजाजत चाहिए होगी।
  • अटेंडेंस का इंतजाम बायोमेट्रिक की बजाय कॉन्टैक्टलेस करना होगा।
  • छात्रों और टीचरों के बीच हमेशा छह फीट की दूरी होनी चाहिए।
  • स्कूल में साबुन से हाथ धोने की सुविधा मुहैया कराई जाए।
  • असेंबली, स्पोर्ट्स या ऐसी कोई गतिविधि जिससे भीड़ लगे, सख्त रूप से प्रतिबंधित है।
  • स्विमिंग पूल बंद रहेंगे।
  • एयरकंडीशनर के तापमान को 24-30 डिग्री सेल्सियस के बीच ही रखना होगा। आद्रता 40-70 फीसद के बीच रखनी होगी। क्रॉस वेंटिलेशन और स्वच्छ हवा के लिए व्यवस्था करनी होगी।
  • ऑनलाइन/डिस्टेंस लर्निंग की अनुमति जारी रहेगी। स्कूल अधिकतम अपने 50 प्रतिशत शिक्षक और गैर शिक्षक स्टाफ को ऑनलाइन टीचिंग/ टेलीकाउंसलिंग और इससे जुड़े दूसरे कामों के लिए बुला सकते हैं।
  • स्कूल के जो कर्मचारी बूढ़े, गर्भवती या किसी स्वास्थ्य समस्या से पीड़ित हैं, उन्हें छात्रों के साथ सीधे संपर्क में न लाया जाए।
  • स्कूल मैनेजमेंट टीचरों और कर्मचारियों के लिए पर्याप्त मात्रा में फेस मास्क, हैंड सैनिटाइजर जैसी चीजें रखे।
  • थर्मल गन, डिस्पोजेबल पेपर टॉवल, अल्कोहल वाइप्स जैसे सामान का स्टॉक रखा जाए।
  • किसी लक्षण वाले शख्स का ऑक्सीजन लेवल मापने के लिए पल्स ऑक्सीमीटर स्कूलों में रखा जाए।
  • स्कूलों के एंट्रेंस पर हाथ सैनिटाइज करने और थर्मल स्क्रीनिंग की सुविधा जरूर हो।
  • सिर्फ बिना लक्षण वाले टीचर, कर्मचारी और छात्र ही स्कूल में अंदर जा सकते हैं।
  • छात्र-छात्रों को स्वेच्छा से स्कूल आने की आजादी होगी। किसी भी छात्र पर स्कूल आने के लिए दबाव नहीं बनाया जाएगा।
  • बच्चे अपने माता-पिता की लिखित अनुमति लेकर ही स्कूल आएंगे।

Adv.

अब्दुल रशीद

Abdul Rashid is a well-known Journalist, Political Analyst and a Columnist on national issue. Cont.No.-7805875468, Email - editor@urjanchaltiger.in

Leave a Reply

Back to top button
Close
Close