NEWS

450 भारतीय बेरोजगार सऊदी अरब में भीख मांगने को मजबूर – रिपोर्ट

सऊदी अरब में रहकर काम करने वाले 450 भारतीय मजदूरों को भी तगड़ा झटका लगा है। इन मजदूरों का वर्क परमिट एक्सपायर हो चुका है और लॉकडाउन के चलते वापस अपने वतन भी नहीं जा पाए हैं। मजबूरी में इन्हें भीख मांगनी पड़ रहा है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार ये मजदूर तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश, कश्मीर, बिहार, दिल्ली, राजस्थान, कर्नाटक, हरियाणा, पंजाब और महाराष्ट्र से हैं। इन मजदूरों का वर्क परमिट एक्सपायर हो चुका है और लॉकडाउन के चलते वापस अपने वतन भी नहीं जा पाए हैं। मजबूरी में इन्हें भीख मांगनी पड़ रही है।


एक वर्कर ने शिकायत करते हुए कहा, ‘हमने कोई अपराध नहीं किया है। हम अपने हालातों की वजह से भीख मांगने को मजबूर हुए क्योंकि हमारे पास कोई नौकरी नहीं बची। अब हम डिटेंशन सेंटर में सड़ रहे हैं।’

कुछ दूसरे मजदूरों ने बताया कि वे चार महीने से भी ज्यादा समय से असहनीय कठिनाइयों से गुजर रहे हैं। एक मजदूर ने बताया, ‘हमने देखा कि पाकिस्तान, बांग्लादेश, इंडोनेशिया और श्रीलंका के मजदूरों के साथ यहां की अथॉरिटी मदद कर रही है। उन्हें उनके देशों में भेजा गया।’


अमजद ने प्रधानमंत्री नरेंद मोदी, विदेशमंत्री एस जयशंकर, नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी और सऊदी अरब में भारतीय दूत औसफ सईद को पत्र लिखकर इन 450 मजदूरों की अपील की ओर ध्यान दिलाया है और केंद्र से इन मजदूरों की मदद की गुहार लगाई है।

विदेश मंत्रालय ने दिया जवाब

17 सितंबर को विदेश मंत्रालय की हेल्पलाइन प्रवासी भारतीय साहित्य केंद्र (पीबीएसके) ने अमजद उल्लाह खान को ट्विटर पर जवाब दिया और सभी मजदूरों की डिटेल, उनका कॉन्टैक्ट नंबर और परिवार का संपर्क सूत्र मांगा ताकि मजदूरों को वापस लाया जा सके। बता दें कि 2.4 लाख भारतीयों ने लॉकडाउन के दौरान भारत आने के लिए रजिस्ट्रेशन कराया था हालांकि सिर्फ 40,000 भारतीय ही वापस आ सके थे।

Adv.

न्यूज़ डेस्क, उर्जांचल टाईगर

उर्जांचल टाईगर (राष्ट्रीय हिन्दी मासिक पत्रिका) के दैनिक न्यूज़ पोर्टल पर समाचार और विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें। व्हाट्स ऐप नंबर -7805875468 मेल आईडी - editor@urjanchaltiger.in

Leave a Reply

Back to top button
Close
Close