NEWSबोल के लब आज़ाद

प्याज खरीदी के सिस्टम में झोल,बिचौलिए के लिए अमृत लेकिन किसान व आम जनता के लिए ज़हर ?

Onion procurement system jhol, nectar for middlemen but poison for farmers and general public?

विज्ञापन

मध्यप्रदेश की 9 से ज्यादा बड़ी मंडियों में शनिवार को भी प्याज के दाम 70 रु./किलो से ज्यादा रहे। यहां कुल 52 हजार क्विंटल प्याज आई, जबकि इसमें 45 हजार क्विंटल मंडियों से ही दूसरे राज्यों में भेज दी गई। सिर्फ 20 हजार क्विंटल प्रदेश के फुटकर बाजार में आ सकी। मीडिया रिपोर्ट में छपी यह बात अगर सच है तो बिचौलिए किसानों से सीधी खरीदी कर प्याज दूसरे राज्यों में प्याज बेचकर ख़ूब मुनाफ़ा कमा रहें हैं।


यह भी पढे : शिवराज के मंत्री का कांग्रेसी कार्यकर्ता के सामने घुटना टेकते वीडियो वायरल।


 Onion procurement system jhol, nectar for middlemen but poison for farmers and general public?
Onion procurement system jhol, nectar for middlemen but poison for farmers and general public?

क्या है झोल 

जानकारों की माने तो प्याज की जमाखाेरी पर रोक लगाई जा सकती है, लेकिन प्याज़ के आवक-जावक पर नहीं। यह खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के अधिकार क्षेत्र में नहीं है। स्टॉक लिमिट का नोटििफकेशन जारी होने के बाद जमाखोरी पर कार्रवाई हो सकता है लेकिन बिना जमाखोरी किए अन्य प्रदेश में बिचौलिये तो तब भी ज्यादा मुनाफ़ा के लिए बेचेंगे ही। अब सवाल उठता है कि,ऐसे में कैसे किसानों को फायदा और प्रदेश के आम जनता को उचित क़ीमत पर प्याज मिल सकेगा ?

Adv.

अब्दुल रशीद

Abdul Rashid is a well-known Journalist, Political Analyst and a Columnist on national issue. Cont.No.-7805875468, Email - editor@urjanchaltiger.in

Leave a Reply

Back to top button
Close
Close