NEWS

Republic TV के संपादक अर्नब गोस्वामी के खिलाफ़ खुदकुशी का बंद केस कैसे खुला ?

विज्ञापन

बुधवार सुबह मुंबई पुलिस ने रिपब्लिक टीवी के संपादक अर्नब गोस्वामी को गिरफ़्तार कर लिया है। समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार पुलिस का कहना है कि अर्नब गोस्वामी को 53 साल के एक इंटीरियर डिज़ाइनर की आत्महत्या के मामले में गिरफ़्तार किया गया है।

किस मामले में हुई अर्नब गोस्वामी गिरफ़्तारी

क्विंट के अनुसार  5 मई 2018 को अवन्य नाइक और उनकी मां कुमुद नाइक ने सुसाइड कर लिया था। पुलिस को घर से जो सुसाइड नोट मिला, उसमें नाइक ने लिखा था कि वो और उनकी मां पैसों की तंगी से जूझ रहे थे। इसीलिए आखिर में उन्होंने खुदकुशी करने का फैसला किया।  सुसाइड नोट में बताया गया था कि उनकी कंपनी कॉनकोर्ड डिजाइंस प्राइवेट लिमिटेड को उनकी तीन क्लाइंट्स ने काम के बाद बड़ी रकम देने से इनकार कर दिया. इन तीनों क्लाइंट्स में।

  • अर्णब गोस्वामी (एआरजी आउटलियर/रिपब्लिक टीवी)को कंपनी के 83 लाख रुपये चुकाने थे
  • नीतीश शारदा (स्मार्टवर्क्स) को 55 लाख रुपये
  • फिरोज शेख (स्काइमीडिया) को 4 करोड़ की पेमेंट करनी थी

यह भी पढे : क्या है IPC की धारा 306 जो अर्नब गोस्वामी पर लगाया गया है ?



महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने मई में ट्वीट किया था,

“अदन्या नाइक ने मुझसे शिकायत की थी कि अलीबाग पुलिस ने अर्नब गोस्वामी के रिपब्लिक से बकाया भुगतान की जांच नहीं की है, जिसने मई 2018 में उसके बिज़नेसमैन पिता और दादी को आत्महत्या के लिए उकसाया था। मैंने CID मामले की फिर से जांच करने को कहा है


Adv.

न्यूज़ डेस्क, उर्जांचल टाईगर

उर्जांचल टाईगर (राष्ट्रीय हिन्दी मासिक पत्रिका) के दैनिक न्यूज़ पोर्टल पर समाचार और विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें। व्हाट्स ऐप नंबर -7805875468 मेल आईडी - editor@urjanchaltiger.in

Leave a Reply

Back to top button
Close
Close