सिंगरौली न्यूज

कलेक्टर ने दिए जिम्मेदारों को निर्देश मानसून से पहले जिले की व्यवस्था को बनाए चुस्त दुरस्त।

बैढ़न कार्यालय।। वर्षा के पूर्व बाढ़ग्रस्त क्षेत्रो बहने वाले नदी नालो को चिन्हित कर जनहित को मद्देनजर रखते हुये बाढ़ अतिवृष्टि से निपटने के लिए समस्त तैयारिया मे पूर्व पूर्ण किया जाना सुनिश्चित करे।कलेक्टर राजीव रंजन मीणा के अध्यक्षता मे मानसून सीजन मे बाढ़ पूर्व की तैयारी की आयोजित बैठक मे यह निर्देश कलेक्टर द्वारा उपस्थित अधिकारियो को दिया गया।

कलेक्टर ने राजस्व अधिकारियो को निर्देश दिये कि अपने अपने क्षेत्रो के ऐसे नदी तथा नालो को चिन्हित करे जिन मे बाढ़ आने की अधिक संभावना है, उन्होने निर्देश दिया कि बाढ़ग्रस्त क्षेत्र मे निवास करने वाले व्यक्तियो से सतत संम्पर्क बनाये रखे। उन्होने कहा कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रो की पंचायतो मे रहने वाले 10 महत्वपूर्ण व्यक्तियो के फोन नंम्बर भी अपने पास रखे। उन्होने कहा कि कलेक्ट्रेट मे जिला स्तरीय कन्ट्रोल रूम तथा नगर निगम मे शहरी क्षेत्रो के लिए कन्ट्रोल रूम स्थापित कर कन्ट्रोन रूम के नंम्बरो का अधिक से अधिक प्रचार प्रसार किया जाये।

कलेक्टर ने बैठक मे उपस्थित डिस्ट्रीक कमान्डेंट होमगार्ड के द्वारा उनके विभाग द्वारा की गई तैयारियो की जानकारी लेने के पश्चात निर्देश दिये कि मोटर बोट तथा लाईफ जैकेट बोटो जालो, रंस्सियो टेंट, ट्यूब टार्च गोता खोरो तैराको सहित बाढ़ आपदा के समय लगने वाली आवश्यक सामग्रियो का अभी से स्टोर मे पर्याप्त भण्डारण कर ले ताकि आवश्यकता पड़ने पर उनका भलि भाति उपयोग किया जा सके। उन्होने नगर निगम आयुक्त को निर्देश दिये कि अभियान चलाकर शहरी क्षेत्र के निचले इलाको तथा एसे क्षेत्र जहा पानी का भराव रहता है वहा पर पानी की निकासी के लिए नालो की साफ सफाई तथा उनका गहरीकरण कराये। तथा नाले एवं नालियो के उपर किये गये अतिक्रमणो को भी तत्काल हटाने की कार्यवाही करे।

कलेक्टर के द्वारा बैठक मे उपस्थित मुख्य स्वास्थ्य चिकित्सा अधिकारी को अधिकारी को निर्देश दिया गया कि वर्षा के समय उत्पन्न होने वाली बिमारियो से बचाव लिए अभी सजग बने रहे। उन्होने निर्देश दिया कि पर्याप्त मात्रा मे स्टोर के साथ ही उपस्वास्थ्य केन्द्रो दवा का भण्डारण सुनिश्चित करे। उन्होने कहा कि वर्षा ऋतु के दौरान सर्पदंश की घटनाये चितरंगी क्षेत्र मे अधिक होती है उन्होने निर्देश दिया कि उपस्वास्थ्य केन्द्रो मे पर्याप्त मात्रा मे सर्पदंश से बचाव करने वाली उपलब्ध रहे। उन्होने निर्देश दिया कि स्वास्थ्य विभाग एवं लोक स्वास्थ्य यात्रिकी विभाग संयुक्त रूप से हैन्डपंम्पो के साथ साथ गाव मे बने कूपो मे सुद्ध पेयजल के लिए ब्लीचिंग पाउडर सहित पेयजल को सुद्ध करने वाली गोली की व्यवस्था सुनिश्चित करे।

कलेक्टर ने विद्युत विभाग के कार्यपाल यंत्री को निर्देश दिये कि वर्षात के दौरान विद्युत व्यवस्था को चुस्त दुरस्त बनाये रखे।

वही बैठक मे उपस्थित पशु चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिये कि वर्षा सीजन मे पशुओ मे होने वाली बिमारियो के रोकथाम के लिए पशुओ का अभियान चलाकर अभी से टीकाकरण प्रारंभ करे।

कलेक्टर ने उपस्थित अधिकारियो से विगत वर्ष मे बाढ़ एवं अतिवृष्टि से निपटने के लिए गई व्वस्थाओ की जानकारी ली।एवं निर्देष दिये कि सभी विभाग बाढ़ अतिवृष्टि से निपटने के लिए अपने अपने यहा नोडल अधिकारियो की नियुक्ति कर उसकी सूची जिला कार्यालय मे उपलब्ध कराये।

उन्होने खाद्यायन अधिकारी को निर्देश दिया कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रो मे वर्षा के पूर्व ,खाद्यायन सामग्रियो , कैरोसीन आदि को समुचित भण्डारण कराये। कलेक्टर ने कहा कि शीघ्र ही जिले मे कार्यरत औद्योगिक कम्पनियो के साथ भी बाढ़ आपदा प्रबंधन निपटने के लिए एक बैठक और आयोजितकी जायेगी।

बैठक के दौरान जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ऋतुराज, अपर कलेक्टर बी.के पाण्डेंय, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रदीप सिंडे, सहायक कलेक्टर सघप्रिय, एसडीएम ऋषि पवार, विकास सिंह, नीलेश शर्मा, डिप्टी कलेक्टर एस.पी मिश्रा, रवि मालवीय, तहसीलदार जीतेन्द्र बर्मा सहित जिलाधिकारी उपस्थित रहे।

Follow me on GOOGLE NEWS  #  FACEBOOK PAGE
Adv.

न्यूज़ डेस्क, उर्जांचल टाईगर

उर्जांचल टाईगर (राष्ट्रीय हिन्दी मासिक पत्रिका) के दैनिक न्यूज़ पोर्टल पर समाचार और विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें। व्हाट्स ऐप नंबर -7805875468 मेल आईडी - editor@urjanchaltiger.in

Leave a Reply

Back to top button
Close
Close