World Boxing Championships : निखत जरीन ने वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप में भारत को दिलाया गोल्ड।

विश्व महिला मुक्केबाजी चैंपियनशिप में निखत जरीन ने गोल्ड मेडल हासिल किया है। उनकी इस जीत से एक बार फिर भारत का नाम पूरी दुनिया में रोशन हुआ है।

52 किलो वर्ग के इस मुकाबले का आयोजन तुर्की के इस्तांबुल में हुआ। जहां गुरुवार को निखत जरीन ने फ्लाइवेट फाइनल मुकाबले में थाईलैंड की जितपोंग जुतामास को हरा कर गोल्ड मेडल हासिल किया।

निखत जरीन विश्व चैंपियनशिप में गोल्ड लाने वाली पांचवी भारतीय महिला बन गई हैं। इसके पहले मैरी कॉम, सरिता देवी जेनी आरएल और लेखा केसी ने भारत को गोल्ड दिलाया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट पर निखत जरीन को उनके जीत पर बधाई दी है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा है, “हमारे मुक्केबाजों ने हमें गौरवान्वित किया है। महिला विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में शानदार स्वर्ण जीतने के लिए मैं निखत जरीन को बधाई देता हूं। इसके साथ ही इस प्रतियोगिता में मनीषा मौन और परवीन हुड्डा को भी कांस्य जीतने के लिए बधाई।

अपनी इस जीत के बारे में मीडिया से बात करते हुए निखत ने कहा, यह जीत मेरे माता पिता को समर्पित है। मेरे पिता ने मुझे हमेशा सपोर्ट किया। मेरी मां नमाज में मेरी जीत के लिए दुआ करती थीं, और ऊपर वाले ने उनकी दुआ कुबूल कर ली। मेरे बुरे वक्त में मेरे माता-पिता और मेरा परिवार हमेशा मेरे साथ था। जब ट्विटर पर ट्रेंड करने के बारे में उनसे पूछा गया, तो निखत ने कहा, मेरा सपना रहा है कि, मैं एक दिन ट्विटर पर ट्रेंड करूं। आज मैं ट्विटर पर ट्रेंड कर रही हूं, यह जानकर मुझे बहुत खुशी हो रही है। इसके पहले भी निखत जरीन ट्विटर पर ट्रेंड कर चुकी हैं। उस समय निखत ट्रोलिंग के कारण ट्विटर पर ट्रेंड कर रही थी।

दरअसल साल 2019 में उन्होंने खेल मंत्री किरेन रिजिजू से मैरी कॉम के साथ मैच कराने की मांग की थी। यह मैच टोक्यो ओलंपिक में क्वालीफाई करने के लिए खेला जाना था। उस वक्त मेरी कॉम 6 बार की विश्व चैंपियन रह चुकी थीं। मैरी कॉम और निखत के बीच हुए मुकाबले में, निखत मैरीकॉम से 1-9 से हार गईं। मुकाबले में मैरीकॉम से मिली करारी हार के बाद ट्विटर पर उन्हें ट्रोल किया जाने लगा। निखत को हराने के बाद मैरीकॉम ने उनसे हाथ तक नहीं मिलाया था। पर आज वह भारत की पांचवीं महिला बॉक्सर बन गई हैं, जिन्होंने वर्ल्ड चैंपियनशिप का खिताब अपने नाम किया है।

निखत की इस जीत पर उनके पिता का कहना है, निखत ने विश्व महिला चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल हासिल कर पूरे देश का सर गौरव से ऊंचा कर दिया है। उसकी यह जीत उन सभी भारतीयों की जीत है, जिन्होंने इस सफर में उसका साथ दिया।

जबकि निखत की मां कहती हैं, मेरी बेटी देश के लिए गोल्ड मेडल लेकर आई है। यह हमारे परिवार के लिए बहुत बड़ा पल है। हमें कब से इस दिन का इंतजार था। पर यह सब इतना आसान नहीं था। हमारे रिश्तेदारों और दोस्तों ने हमें बहुत कुछ कहा पर हमने अपनी बेटी पर भरोसा किया और जिसका नतीजा सबके सामने है।

आपको बता दें, 25 वर्ष की निखत जरीन तेलंगाना की रहने वाली हैं। उनके पिता का नाम जमील अहमद व मां का नाम परवीन सुल्ताना है। निखत 13 साल की उम्र से बॉक्सिंग कर रही हैं।इसके पहले भी निखत ज़रीन साल 2010 में स्टेट चैंपियनशिप और 2011 में विश्व जूनियर और युवा चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीत चुकी है।

निखत ने वर्ल्ड महिला चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीतकर यह साबित कर दिया है कि, “कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।”

Viral Video