यात्रीगण कृपया ध्यान दे! इस तारीख को बंद हो सकती है पूरे देश की रेल सेवाएं ?

Indian Railway: देश भर के लगभग 35,000 स्टेशन मास्टर एक साथ हड़ताल पर जा सकते हैं। इससे देश भर में ट्रेन की आवाजाही बाधित हो सकती है और ट्रेन के पहिए ठप हो सकते हैं।

35,000 स्टेशन मास्टरों ने भेजा नोटिस

रेलवे की उदासीनता के चलते देशभर के करीब 35 हजार स्टेशन मास्टर्स ने अपनी ओर से रेलवे बोर्ड को नोटिस भेजा हैं। स्टेशन मास्टर्स ने 31 मई को हड़ताल करने का ऐलान किया है। ये स्टेशन मास्टर चाहते हैं कि उनके कैडर के रिक्त पदों को शीघ्र भरा जाए। अभी स्टेशन मास्टरों को 8 घंटे की जगह 12 घंटे काम करना पड़ता है।

‘सार्वजनिक अवकाश पर जाने के अलावा कोई विकल्प नहीं’

ऑल इंडिया स्टेशन मास्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष धनंजय चंद्रत्रा के मुताबिक अब उनके पास सार्वजनिक अवकाश पर जाने के अलावा कोई चारा नहीं है. उन्होंने कहा कि वर्तमान में देश भर में 6,000 से अधिक स्टेशन मास्टरों की कमी है और रेलवे प्रशासन इस पद के लिए कोई नियुक्ति नहीं कर रहा है। इस वजह से देश के 50 से ज्यादा स्टेशनों में फिलहाल सिर्फ दो स्टेशन मास्टर हैं.

’12 घंटे के लिए शिफ्टिंग’

स्टेशन मास्टर्स की शिफ्ट 8 घंटे की होती है, लेकिन स्टाफ की कमी के चलते हर रोज 12 घंटे शिफ्ट हो रहे हैं। जिस दिन स्टेशन मास्टर की साप्ताहिक छुट्टी होती है, उस दिन कर्मचारी को दूसरे स्टेशन से बुलाना पड़ता है। ऐसे में किसी कर्मचारी की तबीयत बिगड़ने या घर में किसी आपात स्थिति से समस्या और बढ़ जाती है।

‘लंबे संघर्ष के बाद लिया फैसला’

अध्यक्ष धनंजय चंद्रत्रे ने कहा कि Station Master Association (SMA) ने अचानक नहीं, बल्कि लंबे संघर्ष के बाद ये निर्णय लिया। रेल प्रशासन ने भी उनकी मांगों को नहीं माना। इससे पहले एस्मा के अधिकारियों ने भी रेलवे बोर्ड के अधिकारियों को ई-मेल भेजकर विरोध किया और कई प्रतीकात्मक विरोध प्रदर्शन किए, जिसके दौरान ट्रेन संचालन प्रभावित नहीं हुआ।

कब कब किया विरोध

  1. पहला चरण एस्मा के अधिकारियों ने भी रेलवे बोर्ड के अधिकारियों को ई-मेल भेजकर विरोध किया और कई प्रतीकात्मक विरोध प्रदर्शन किए, जिसके दौरान ट्रेन संचालन प्रभावित नहीं हुआ।
  2. दूसरे चरण में 15 अक्टूबर 2020 को देश भर के स्टेशन मास्टरों ने नाइट ड्यूटी शिफ्ट के दौरान स्टेशन पर मोमबत्तियां जलाकर विरोध प्रदर्शन किया।
  3. तीसरा चरण 20 अक्टूबर से 26 अक्टूबर, 2020 तक चला। इस समय स्टेशन मास्टर काला बैज लगाकर ट्रेने चलायी।
  4. चौथे चरण में 31 अक्टूबर 2020 को सभी स्टेशन मास्टर एक दिन के अनशन पर थे।
  5. पांचवां चरण प्रत्येक संभाग मुख्यालय के सामने किया गया।
  6. छठे चरण में सभी संसदीय सीटों के जनप्रतिनिधियों और रेल मंत्री को ज्ञापन दिया गया।
  7. सातवें चरण में उन्होंने राज्य के रेल मंत्री से मुलाकात की और उन्हें समस्या के बारे में बताया।

इसके बावजूद स्टेशन मास्टर्स की तमाम मांगें अभी भी पेंडिंग हैं। इसके बाद स्टेशन मास्टरों ने हड़ताल पर जाने का फैसला किया।

स्टेशन मास्टर्स की मांगें

स्टेशन मास्टर्स ने सभी मांगों को रेलवे बोर्ड के सीईओ को भेज दिया है। तदनुसार, रेलवे में सभी रिक्तियों को जल्द ही भरा जाना चाहिए। सभी रेल कर्मचारियों को रात्रि ड्यूटी भत्ता बिना किसी सीमा के वापस करना होगा। स्टेशन मास्टर संवर्ग में एमएसीपी की सुविधा 16.02.2018 के स्थान पर 01.01.2016 से उपलब्ध करानी होगी। संशोधित पदनाम के साथ संवर्ग पुनर्गठन।

स्टेशन मास्टरों को सुरक्षित और समय पर ट्रेनों को चलाने में उनके योगदान के लिए सुरक्षा और तनाव भत्ता दिया जाना चाहिए। रेलवे के निजीकरण और निगमीकरण को रोका जाना चाहिए। नई पेंशन योजना को बंद करना और पुरानी पेंशन योजना को लागू करना भी जरूरी है।