हिन्दी न्यूज

शुबह के चाय के साथ यह खबर भी पढ़ने को मिल जाए।

हम उस जिले के वासी हैं जहां प्रदूषण बहती है। प्रदूषण इतनी बढ़ गई है की मानसिक दिवालियापन लिए मासूम की मासूमियत को मयखाने तक पहुंचा दिया गया। और जिम्मेदार अपने टिटहरी प्रयास को गिनीज़ बूक ऑफ रिकार्ड में दर्ज कराने में व्यस्त और मस्त हैं।बहुत संभव है ऐसे जिम्मेदार साहेब को आने वाले उत्सव में सम्मानित कर दिया जाय।

मयखाने में मासूम की मासूमियत दम तोड़ तो रही है लेकिन गरीब है,लाचार है । प्रदूषण तो है लेकिन प्रदूषण पर ज्ञान बघारने वालों की कमी थोड़े ही है।वे चंद मिंटो में ठेले पर चाय बेचने वाले के चूल्हे से निकलने वाले धुएँ को ही प्रदूषण का प्रमुख कारण साबित कर देंगे।

दरअसल,मामला बस चंद सिक्कों का है। सिक्को से क्या शिकायत। सिकके का असर हुआ तो यह मान लीजिए सब कुछ ठीक हो जाएगा।

सब कुछ ठीक होने की, यह गलतफहमी मत पाल लीजिएगा के किसी दोषी पर कार्यवाही हो जाएगा। भाई, बात मय की है और मय कब मैं में कब बदल जाए। और ताबरतोड़ कार्यवाही शुरू हो जाए और गमले में उगे बोनसाई से प्रदूषण और दिखावे के कार्यवाही से दोष कब मुक्त हो जाए।

संभवतः शुबह के चाय के साथ यह खबर भी पढ़ने को मिल जाए,कि सब कुछ ठीक हो गया। लेकिन न जाने वह ख़बर कब छ्पेगी जिसका इंतजार आम जनता और बेरोजगार युवाओं को है।

पूरा ख़बर पढने के लिए क्लिक करें

अब्दुल रशीद

Abdul Rashid is a well-known Journalist, Political Analyst and a Columnist on national issue. Cont.No.-7805875468, Email - editor@urjanchaltiger.in
Back to top button
viral video