जनसेवा की शपथ लेने के तीसरे दिन 4 लाख की रिश्वत लेते पकड़ाया सरपंच

मध्य प्रदेश में हाल ही में पंचायत चुनाव हुए थे। ग्राम पंचायत में लाखों रुपये खर्च कर सरपंच का चुनाव होता है। पंचायतों में कैसे फैला भ्रष्टाचार का खुलासा आज हुआ। तीन दिन पहले सरपंच चुनाव जीतकर जनसेवा की शपथ लेने वाला शख्स अब 4 लाख रुपये की रिश्वत लेते पकड़ा गया है। घटना मध्य प्रदेश के कटनी जिले की है, जहां लोकायुक्त पुलिस ने शपथ ग्रहण के तीसरे दिन सरपंच को एक लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए पकड़ा. आरोपी भाजपा पिछड़ा वर्ग मोर्चा का धीमरखेड़ा मंडल अध्यक्ष भी बताया जा रहा है।

रिश्वत लेने किसान के घर पहुंचे

शुक्रवार को जबलपुर लोकायुक्त पुलिस की टीम ने सरपंच सुशील कुमार पाल को कटनी जिले की नगर पंचायत ढीमरखेड़ा खामा का में एक लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए दबोचा। सरपंच पैसे लेने के लिए इतना उत्सुक था कि वह शिकायतकर्ता किसान के घर पहुंच गया और लोकायुक्त की टीम ने उसे पकड़ लिया।

चार लाख रुपये की रिश्वत मांगी गई 

लोकायुक्त डीएसपी दिलीप झरवड़े ने कहा कि उत्तर प्रदेश के प्रयागराज निवासी आलोक कुमार के पिता श्रवण कुमार के पास मां के नाम 8 एकड़ जमीन है। खामा में उनका एक घर भी है। आलोक ने उस जमीन पर सरकारी परियोजना का लाभ लेने के लिए सरपंच से संपर्क किया। इसके लिए सरपंच ने 50 हजार रूपये प्रति एकड़ की दर से 4 लाख रुपये रिश्वत की मांग की।

रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ाया सरपंच

आलोक ने लोकायुक्त के पुलिस अधीक्षक संजय साहू से शिकायत की। शिकायत की जांच के बाद शुक्रवार को लोकायुक्त की टीम खामा पहुंची, जहां दोपहर करीब 1.15 बजे आवेदक के घर में सरपंच सुशील कुमार पाल ने जैसे ही रुपए हाथ में लिए टीम ने उसे दबोच लिया। सरपंच के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक कानून के तहत मामला दर्ज किया गया है।

Viral Video