सरई

देवसर व्यापारी व पुलिस के बीच हुई हाथापाई का सच ?

सिंगरौली/देवसर।।जियावन थाना अन्तर्गत देवसर मुख्य बाजार बाज़ार में बीते दिवस 7 मई को पुलिस व व्यापारियों में हाथापाई हो गई, देखते देखते तुल इतना पकड़ लिया कि व्यापारी व पुलिस पत्थरबाजी करने लगे, जब जियावन थाना प्रभारी को हुई सूचना तो उन्होंने फौरन दल बल के साथ देवसर बाजार में पहुंचे मामले को शांत कराने में लगे,

 लॉक डाउन का उल्लंघन के कारण हुआ विवाद

व्यापारी बड़कू की माने तो उसने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा है कि मैं अपने दुकान के सामने केवल खड़ा था उतने में ही पुलिस आकर हम से मारपीट करने लगी,जिसके बाद स्थिति तनावपूर्ण हो गई थी, लेकिन अभी शांत है।

क्या था मामला

सूत्रों की माने तो 7 मई के सुबह पुलिस देवसर के मुख्य बाजार की गश्त कर रही थी, गश्त के दौरान पुलिस ने देखा की श्याम बाबू पिता बड़कू की शोरूम खुली हुई है। वही श्याम बाबू दुकान के बगल में एक व्यापारी पर लॉक डाउन के उल्लंघन में ₹2000 का जुर्माना रसीद काटा जा रहा था।श्याम बाबू दुकान में तिरपाल लगाया हुआ था। मौजूद पुलिसकर्मी हरीश चंद गौतम तिरपाल को खींचने लगे श्याम बाबू उर्फ रामबाबू व्यापारी ने जब इसका विरोध किया तो पुलिसकर्मी ने उस पर डंडे से प्रहार कर दिया। इस तरह के आरोप व्यापारियों के हैं यहां से विवाद इतना बढ़ा कि देखते देखते सैकड़ों व्यापारी लामबंद होकर पुलिसकर्मियों से धक्का-मुक्की करने लगे।

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक बात इतनी बढ़ गई कि आक्रोशित व्यापारियों ने पुलिसकर्मियों को खदेड़ने पत्थरबाजी शुरू कर दिए। पुलिसकर्मी घटनास्थल से भागने में सफल हो गए कुछ देर बाद थाना प्रभारी ने स्वयं व देवसर एसडीएम विकास सिंह तहसीलदार एवं अन्य प्रशासनिक अमला पहुंच कर मामले को शांत कराया। तब जाकर कहीं माहौल ठंडा हुआ।

क्या कर रही है प्रशासन ?

इस मामले में पुलिस व राजस्व कर्मियों के साथ हाथापाई करने वाले करीब आधा दर्जन आरोपियों के विरुद्ध पुलिस ने मामला पंजीबद्ध कर कार्यवाही तेज कर दिया है।

किसके कहने पर हुआ है मामला दर्ज

फरियादी पवन कुमार नायक की रिपोर्ट पर आरोपी श्याम बाबू और रामबाबू गुप्ता बड़कू, राम सागर गुप्ता दीपू गुप्ता समेत आधा दर्जन से अधिक आरोपी के विरुद्ध भादवि की धारा 147 148 323 294 506 एवं 427 के तहत मामला पंजीबद्ध किया गया है। आरोप है कि व्यापारियों ने पवन कुमार नायक के मोबाइल को भी गुस्से में आकर चकनाचूर कर दिया।

पुलिस बरसाई थी लाठियां

पुलिस एवं राजस्व अमले पर कुछ व्यापारियों द्वारा किया गया हाथापाई गाली गलौज धक्का-मुक्की का मामले में  कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस ने लाठियां भांजी और जब पुलिस लाठियां बरसाने लगी तो लोग घरों के अंदर भागने लगे। इस दौरान पुलिस पूरे शहर का पैदल मार्च किया।जिसमें एसडीएम एसडीओपी तहसीलदार नायब तहसीलदार टीआई भी शामिल। 

जुर्माना की रकम को लेकर हुआ था विवाद

जियान थाना प्रभारी नेहरू सिंह का कहना है कि कुछ व्यापारियों द्वारा लॉकडाउन का उल्लंघन किया जा रहा था। राजस्व अधिकारियों के साथ पुलिसकर्मी गश्त के दौरान रामबाबू दुकान के बगल में एक व्यापारी से लॉकडाउन के उल्लंघन में ₹2000 का जुर्माना वसूल किया जा रहा था। बस इस बात के लिए हो रही थी कि ₹200 के स्थान पर ₹2000 क्यों वसूला जा रहा है। व्यापारियों को बताया भी गया लेकिन श्याम बाबू भड़क गया था। और पुलिस व राजस्व अमले के साथ वाद विवाद करने लगा। मामला पूरी तरह से नियंत्रण में है नामजद आरोपियों के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध किया जा कर कार्रवाई की जा रही है।

देवसर एसडीएम का कहना है,वैधानिक कार्रवाई की जा रही है 

देवसर एसडीएम विकास सिंह ने बताया कि,देवसर बाजार में लॉक डाउन का उल्लंघन करने पर एक व्यापारी के यहां जुर्माना वसूल किया जा रहा था। शूज दुकान भी खुली थी और अंदर कई ग्राहक भी थे।राजस्व एवं पुलिसकर्मियों ने जब कार्यवाही करने का प्रयास किया तो दुकानदार पुलिस से हाथापाई करने लगा। स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है वैधानिक कार्रवाई की जा रही है।

देवसर एसडीएम ने दिया सख्त हिदायत

एसडीएम विकास सिंह ने पूरे घटनाक्रम के संबंध में कलेक्टर राजीव रंजन मीणा एवं पुलिस अधीक्षक वीरेंद्र कुमार सिंह को अवगत कराते हुए, देवसर शहर के गणमान्य नागरिकों एवं प्रबुद्ध व्यापारियों को बुलाकर समझाते बुझाते एवं सख्त लहजे में कहा कि,

यदि शासन प्रशासन के दिशा निर्देश का उल्लंघन किया गया और किसी भी शासकीय सेवक पर हमला हुआ तो किसी को बख्शा नहीं जाएगा। साथ ही पूरा देवसर को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया जाएगा। ऐसे हालात निर्मित न हो एसडीएम के समझाइश के बाद गणमान्य नागरिकों ने प्रशासन का सहयोग करने का आश्वासन दिया।

पूरा ख़बर पढने के लिए क्लिक करें
Back to top button