GOOGL NEWS
विशेषहिन्दी न्यूज

झिंगुरदह हनुमान मंदिर : जहां नारियल की बलि दी जाती है !

राकेश विश्वकर्मा।। उत्तर प्रदेश के सोनभद्र हनुमान मंदिर में मेले का आयोजन किया गया है। जिसमें दूर-दराज से आए श्रद्धालु की भीड़ उमड़ी। हनुमान मंदिर उत्तर-प्रदेश एवं मध्य प्रदेश की सीमा झिंगुरदह में प्राचीन समय से हनुमान मंदिर स्थित है। यह एक अति प्राचीन मंदिर है। झिंगुरदह मंदिर बहुत ही लोकप्रिय है और इस हनुमान मंदिर के पास में टिप्पा झरिया के आसपास के क्षेत्र सिंगरौली का प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हैं।

झिंगुरदह हनुमान मंदिर : कब और कैसे हुआ निर्माण ?

मेला व्यवस्थापक से प्राप्त जानकारी के अनुसार-हनुमान मंदिर उत्तर प्रदेश सोनभद्र जिले जिले के अनपरा क्षेत्र औड़ी झिंगुरदह में स्थित है। हनुमान जी की प्रतिमा झिंगुरदह पहाड़ में प्राचीन समय में खुद ब खुद मूर्ति प्रकट हुई थी। हुई है।और बदलते समय के अनुसार मंदिर में सभी व्यवस्थाएं की जा रही है।

जानकार बताते हैं कि,हनुमान जी की मूर्ति प्रकट होने के बाद यहां सिंगरौली राजपरिवार द्वारा पूजा-अर्चना शुरू किया गया। लगभग 200 साल पहले दक्षिण भारत की शैली में एक विशाल हनुमान मंदिर का निर्माण भी सिंगरौली शाही परिवार द्वारा कराया गया था। कुछ लोगों का दावा है कि समर्थ गुरु रामदास भी छत्रपति शिवाजी के समय यहां आए थे और उन्होंने हनुमानजी की पूजा की थी।

झिंगुरदह हनुमान मंदिर : जहां नारियल की बलि दी जाती है!

सिद्धपीठ की मान्यता रखने वाला दुनिया का यह इकलौता ऐसा मंदिर है, जहां लड्डू, माला-फूल चढ़ाने से पहले नारियल की बलि चढ़ाई जाती है। यहां मन्नत के लिए भी चुनरी में नारियल बांधने और मुराद पूरी होने पर इसे खोलकर भंडारा और शृंगार की परंपरा वर्षों से बनी हुई है।


प्रधानमंत्री पहुंचे बाबा केदारनाथ, दर्शन एवं पूजा अर्चना कर रहे हैं। देखिए लाइव


झिंगुरदह मंदिर : होता है 10 दिवसीय मेले का आयोजन!

दीपावली के त्यौहार पर प्रत्येक वर्ष मंदिर में मेले का आयोजन किया जाता है। जो की 10 दिवसीय मेला होता है। यह मेला धनतेरस के दिन से प्रारंभ किया जाता है। दीवाली के पावन पर्व पर मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश और अन्य स्थानों से लोग आते हैं। और अमावस्या के दिन तकरीबन लाखों में भक्तों श्रद्धालुओं की संख्या होती है। मंदिर के वर्तमान समय में राम लल्लू पाण्डेय पुजारी हैं।

झिंगुरदह हनुमान मंदिर : जहां नारियल की बलि दी जाती है !

आयोजित मेले के सक्रिय कार्यकर्ता ने बताया की इस स्थान को लोग पहाड़ी वाली हनुमान मंदिर झिंगुरदह के नाम से भी जानते हैं। और जय बजरंग सेवा समिति के महा सचिव ने बताया की यह मंदिर दो प्रदेशों मध्य प्रदेश व उत्तर प्रदेश के बीच में स्थित है।

मेले में खिलौनों की दुकान, विभिन्न प्रकार की मिठाई व खान-पान की दुकान,श्रृंगार की दुकान और भी कई तरह की दुकानें लगी रही। एवं दूर-दराज से आए लोग आयोजित मेले का भरपूर आनंद लेते हैं। और वर्तमान समय में आयोजित मेले की सुरक्षा के लिए उत्तर प्रदेश प्रशासन द्वारा पुलिस बल को तैनात किया गया है।

पूरा ख़बर पढने के लिए क्लिक करें

अब्दुल रशीद

Abdul Rashid is a well-known Journalist, Political Analyst and a Columnist on national issue. Cont.No.-7805875468, Email - editor@urjanchaltiger.in
Back to top button