मध्यप्रदेश के इस गांव में प्यास बुझाने के लिए हर दिन ज़िंदगी लगती है दाव पर !

मध्यप्रदेश के सीधी जिले में प्यास बुझाने के लिए हर रोज जान जोखिम में डालना पड़ता है। एक नहीं दो नहीं पूरे गांव को। सीधी जिले के ग्राम हरदी (मूड़ा पहाड़) पर ग्रामीण अपनी जान जोखिम में डालकर 300 फीट नीचे पहाड़ उतर कर पानी लेने आते हैं।

अमर दिवेदी।। सिहावल। क्या आपने ऐसा कभी सुना है या देखा है कि प्यास बुझाने के लिए हर रोज ज़िंदगी दाव पर लगता हो। एक दो व्यक्ति नहीं बल्कि पूरा का पूरा गांव पानी के लिए अपनी जान को जोखिम में डालता हो। पानी के लिए 300 फीट नीचे गहरी खाई में उतर कर हर दिन पानी लेकर ऊपर चढ़े।

दरअसल,आजादी के 75 वर्ष बीत जाने के बाद भी सीधी जिला मुख्यालय से 35 किलोमीटर दूर सिहावल विधानसभा क्षेत्र के ग्राम हरदी का है।ग्राम हरदी (मूड़ा पहाड़) पर ग्रामीण अपनी जान जोखिम में डालकर 300 फीट नीचे पहाड़ उतर कर पानी लेने आते हैं। उनके जल का एक स्रोत मात्र प्राकृतिक झरना है। अगर यह झरना गर्मी के मौसम में सूख जाता है तो ग्रामीणों को पानी की सबसे ज्यादा किल्लत होती है। 

मध्यप्रदेश के इस गांव में प्यास बुझाने के लिए हर दिन ज़िंदगी लगती है दाव पर !
मध्यप्रदेश के इस गांव में प्यास बुझाने के लिए हर दिन ज़िंदगी लगती है दाव पर ! / urjanchaltiger.com

बता दें कि ग्राम पंचायत बघौड़ी में लगभग साढ़े तीन हजार वोटर हैं।जो प्रति 5 वर्ष में जनप्रतिनिधियों को चुनते हैं। लेकिन आज तक चाहे सांसद हों, विधायक हों, सरपंच हों या कोई अन्य किसी ने भी इन ग्रामीणों को पानी जैसी मूलभूत सुविधा उपलब्ध कराने की जहमत नहीं उठाई।

गांव एक बुजुर्ग राम विराजे पटेल ने बताया है कि हम प्रतिदिन गांव से 3 किलोमीटर दूर पहाड़ के नीचे जान जोखिम में डालकर पानी लेने के लिए उतरते हैं, और चढ़ते हैं। भगवान न करें अगर किसी भी प्रकार का हादसा हो जाए तो यहां कोई देखने वाला भी नहीं है।

मध्यप्रदेश के इस गांव में प्यास बुझाने के लिए हर दिन ज़िंदगी लगती है दाव पर !
मध्यप्रदेश के इस गांव में प्यास बुझाने के लिए हर दिन ज़िंदगी लगती है दाव पर !/urjanchaltiger.com

खास बातचीत के दौरान पंचायत के सरपंच पर बुजुर्ग व्यक्ति राम बिराजे पटेल ने आरोप लगाते हुए कहा कि जब से वह सरपंच बने हैं तब से इस गांव की ओर एक बार भी नहीं आए हैं। हम लोग इसी तरह जीवन व्यतीत करने को मजबूर हैं।

जल्द ग्रामीणों को पानी की उपलब्धता सुनिश्चित करूंगा – कमलेश्वर पटेल

बुजुर्ग व्यक्ति ने यह भी बताया है कि जब तक स्वर्गीय इंद्रजीत कुमार जीवित थे तब तक कुछ मदद मिल जाती थी लेकिन अब कोई भी सुनने वाला नहीं है। इस पूरे मामले को लेकर जब उर्जांचल टाइगर राष्ट्रीय हिन्दी पत्रिका के ब्यूरो ने सिहावल विधायक तथा स्वर्गीय इंद्रजीत कुमार के पुत्र कमलेश्वर पटेल से सवाल किया तो उन्होंने कहा,मैं जल्द से जल्द इस संबंध में ठोस कदम उठाऊंगा तथा ग्रामीणों को पानी की उपलब्धता सुनिश्चित करूंगा।

#एंटेरटेनमेंट     #सरकारी योजना    #काम की खबरें