Travel Without Train Ticket: अब बिना टिकट के करें ट्रेन मे सफर, TC रोके तो दिखाये यह SMS !

Travel Without Train Ticket: रेलवे के ऐसे कई नियम हैं जो लोग नहीं जानते हैं, हम यहां ऐसे ही एक नियम की चर्चा कर रहे हैं। इस नियम के मुताबिक आप रेलवे के स्लीपर कोच या एसी कोच में आराम से सफर कर सकते हैं। केवल आपके पास कोई सरकारी पहचान प्रमाण होना चाहिए जैसे आधार कार्ड या वोटर आईडी। हालांकि यह नियम बहुत पुराना है, लेकिन बहुत से लोग इसे नहीं जानते हैं। ऐसे में टीसी आपसे किसी भी तरह का जुर्माना नहीं वसूल पाएगा, तो आइए जानते हैं इस नियम के बारे में।

बस यह SMS TC को दिखाएं

आपके मोबाइल फोन पर सीट और बर्थ नंबर के साथ एक मैसेज आता है और टिकट कंफर्म हो जाता है, तो रेलवे इसे वैध टिकट मानता है, लेकिन कुछ शर्तें हैं जैसे एसएमएस केवल उन्हीं यात्रियों के लिए मान्य होगा जिन्होंने पंजीकरण कराया है। IRCTC या ऑनलाइन टिकट बुक किया। काउंटर से टिकट खरीदने वालों को यह लाभ नहीं मिल रहा है।

काउंटर टिकट वाले क्या करें?

यदि आप काउंटर टिकट खरीदते हैं और आपके पास टिकट नहीं है, तो यात्री को कुछ शर्तों के अधीन यात्रा करने की अनुमति है। व्यक्ति को टीसी के सामने यह साबित करना होता है कि वह वही यात्री है जिसके नाम से टिकट खरीदा गया है। लेकिन उसके बाद भी यात्रियों की परेशानी का कोई अंत नहीं है। उसे टिकट की कीमत और जुर्माना देना होगा। साथ ही ध्यान दें कि अगर टिकट एयर कंडीशन क्लास के लिए है तो जीएसटी अलग से चार्ज किया जाएगा।

ई-टिकट कब लागू किया गया है?

आजकल ई-टिकट भी काम करते हैं, लेकिन एक समय ऑनलाइन टिकट खरीदने के बाद भी प्रिंटआउट की मांग की जाती थी, यानी यात्री के पास प्रिंटआउट नहीं होता था। इसे बिना टिकट माना गया और इसके खिलाफ चालान किया गया। 2012 में रेल मंत्री ममता बनर्जी के कार्यकाल में ई-टिकट धारकों के लिए टिकट का प्रिंट आउट वैकल्पिक कर दिया गया था, यानी अगर आपके पास प्रिंट आउट नहीं है तो भी आपको कोई परेशानी नहीं होगी।

Viral Video