होम हेड लाइन मध्य प्रदेश मनोरंजन बिजनेस पर्सनल फाइनेंस ब्यूटी फैशन
---Advertisement---

अनोखी शादी, 7 फेरों के बाद दूल्हा पहुंचा जेल, परिवार वाले खुशी से झूम रहे ..

सतना जिले के मैहर में जिस तरह की अनोखी शादी हुई है शायद आपने न तो सुना होगा और न देखा होगा। क्योंकि सतना से मैहर आई दूल्हे की बारात में एक दो नहीं पूरे आठ पुलिसकर्मी न सिर्फ बाराती बने बल्कि रात भर में पूरा विवाह भी सम्पन्न कराया।लेकिन सुबह 6 बजे पुलिसकर्मी दूल्हे को वापस सतना सेंट्रल जेल गये ।

जानिए इस अनोखी शादी की कहानी

दूल्हा विक्रम चौधरी मध्य प्रदेश सतना के घरडांग निवासी हैं। उन्हें पुलिस ने 14 मई को गिरफ्तार किया। पुलिस ने गिरफ्तार दूल्हा विक्रम चौधरी और उनके पिता को आबकारी अधिनियम के तहत कोर्ट में पेश किया। जहां से पिता पुत्र दोनों को जेल भेज दिया गया। विक्रम चौधरी की शादी 16 मई को मैहर के करुआ गांव में तय हुई थी, दोनों परिवारों में शादी की पूरी तैयारियां पूरी हो चुकी थी, शादी के कार्ड बंट चुके थे, रिश्तेदार और बाहर के मेहमान आ चुके थे।

अनोखी शादी, 7 फेरों के बाद दूल्हा पहुंचा जेल, परिवार वाले खुशी से झूम रहे ..

लेकिन अवैध शराब का कारोबार करने के आरोप में पिता व पुत्र को जेल भेज दिया गया था। ऐसे में दूल्हा दुल्हन के परिवार वालो ने सतना कोर्ट में दूल्हे विक्रम चौधरी का तय तारीख पर विवाह संपन्न कराने के लिए आवेदन दिया। कोर्ट ने आवेदन आवेदन स्वीकार कर लिया और यह आदेश दिया की, पर्याप्त पुलिस अभिरक्षा में आरोपी दूल्हे विक्रम चौधरी की शादी करा दिया जाए।

अनोखी शादी कोर्ट के आदेश से हुई ?

कोर्ट के आदेश के बाद दोनों परिवारों में खुशी से झूम उठे। दूल्हे को आठ पुलिसकर्मियों की सुरक्षा में जेल से घर लाया।  और पुलिस अभिरक्षा में अवैध शराब का कारोबार करने का आरोपी दूल्हा विक्रम चौधरी शादी के जोड़े में दुल्हन को लेने मैहर के करुआ गांव पहुंचा। स्टेज पर दूल्हा-दुल्हन ने एक-दूसरे को वरमाला पहनाई और दूल्हा-दुल्हन सात फेरे लेकर सात जन्मों के अटूट बंधन बंध गए। शादी की सभी रस्मों के संपन्न होने के बाद सुबह 6 बजे पुलिस दूल्हे को वापस सतना सेंट्रल जेल ले गए।

News Desk

News Desk

URJANCHAL TIGER  दैनिक समाचार पोर्टल और मासिक पत्रिका,  वर्तमान मामलों और मीडिया विश्लेषण का एक मंच है। हम स्वतंत्रता और पारदर्शिता को महत्व देते हैं और मानते हैं कि दोनों, लोकतंत्र और स्वस्थ समाज के अभिन्न अंग हैं। यह समाचार मीडिया पर भी लागू होता है, जिसे लोकतंत्र के चौथे स्तंभ के रूप में जाना जाता है।

Live TV