मध्यप्रदेश

Video : CM शिवराज ने दिए सख्त निर्देश,वातावरण बिगाड़ने वाले NGO को चिन्हित कर कार्रवाई करें!

भोपाल।। प्रदेश में सुशासन को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज मंत्रालय में कलेक्टर कमिश्नर की मीटिंग में वीसी केई माध्यम से कई महत्वपूर्ण विषयों की समीक्षा की। और कई महत्वपूर्ण दिशा निर्देश दिए। 

कलेक्टर- कमिश्नर कॉन्फ्रेंस में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा वातावरण बिगाड़ने वाले NGO को चिन्हित कर कार्रवाई करें, राशन से संबंधित अनेक शिकायतों के निराकरण एवं स्वच्छता को जन आंदोलन बनाने के साथ ही कई निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि खाद्य पदार्थों में मिलावट गंभीर अपराध है। इसे रोकने के लिए पुलिस, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति, स्वास्थ्य विभाग और स्थानीय प्रशासन मिलकर सख्त कार्यवाही करें। मिलावट से मुक्ति अभियान जारी रहे। दोषियों के विरूद्ध अर्थ-दण्ड अधिरोपित हो। 

अर्थ-दण्ड लगाएँ, पंजीयन निलंबित करें

CM चौहान ने कहा कि हमारा उद्देश्य यही है कि लोगों को शुद्ध सामग्री मिले और दोषियों के विरूद्ध सख्त कदम उठाए जाएँ। जहरीली शराब का विक्रय करने वाले नर पिशाच हैं। इनकी जड़ों पर प्रहार किया जाए। खाने-पीने की वस्तुओं में मिलावट करने के दोषी व्यक्तियों से अर्थ-दण्ड की वसूली कर इनके लायसेंस और पंजीयन भी निलंबित किए जाएँ। श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में मिलावट के विरूद्ध संचालित अभियान, नागरिकों को दिखना भी चाहिए। इससे आमजन के मन में विश्वास जागृत होता है कि मिलावटी खाद्य पदार्थों के मुद्दे पर सरकार मजबूती से काम कर रही है।

प्रदेश में हो रही है मिलावटियों पर कार्यवाही

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मिलावटी खाद्य पदार्थों से संबंधित अपराधों पर ठोस कार्यवाही करने वाले ग्वालियर, इंदौर, मुरैना और खरगोन जिले को बधाई दी। ग्वालियर में गत दो माह में 11 मिलावट खोरों से 15 लाख 50 हजार का माल जब्त कर उन पर 3 लाख 32 हजार का अर्थ-दण्ड लगाया गया। इंदौर में 14 प्रकरणों में 12 लाख 30 हजार रूपये का अर्थ-दण्ड लगाया गया। मुरैना में 1 लाख की सामग्री और खरगोन में 456 लीटर अमानक घी जब्त किया गया। पुलिस द्वारा गत दो माह में 67 प्रकरण में 100 आरोपी के विरूद्ध कार्यवाही की गई। चलित खाद्य प्रयोगशालाओं द्वारा जाँच के लिए 74 हजार 595 नमूने लिए गए। प्रदेश में 15 मोबाइल फूड लेब जिलों सहित ब्लाक, तहसील और ग्रामों में कार्य कर रही हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा 9 नवम्बर 2020 को इनका शुभारंभ किया गया था।

खाद्य सुरक्षा प्रशासन में सबसे आगे मध्यप्रदेश

कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि देश में ईट राइट सिटी प्रतियोगिता में 20 जिले शार्टलिस्ट हुए थे, जिनमें से मध्यप्रदेश के 5 जिले भोपाल, उज्जैन, इंदौर, सागर और जबलपुर शामिल हैं। खाद्य सुरक्षा प्रशासन की उपलब्धियों में मध्यप्रदेश देश में प्रथम है। देश में प्रथम भोग प्रमाणन दरगाह बुरहानपुर की दरगाह ए हकीमी को माना गया है। इसी तरह देश में प्रथम ईट राइट स्कूल के लिए इंदौर के सम्मति हायर सेकेण्ड्री स्कूल का चयन किया गया। देश के प्रथम भोग प्रमाणन मंदिर के रूप में महाकाल मंदिर और देश में प्रथम एयर पोर्ट ईट राइट कैम्पस के लिए राजा भोज एयरपोर्ट भोपाल का चयन किया गया है।

पूरा ख़बर पढने के लिए क्लिक करें

न्यूज डेस्क

उर्जांचल टाईगर (राष्ट्रीय हिन्दी मासिक पत्रिका) के दैनिक न्यूज़ पोर्टल पर समाचार और विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें। व्हाट्स ऐप नंबर -7805875468 मेल आईडी - editor@urjanchaltiger.in
Back to top button
viral video