द्रौपदी मुर्मू कौन हैं, जिन्‍हें NDA ने बनाया राष्ट्रपति उम्मीदवार?

भाजपा की अगुवाई वाले एनडीए गठबंधन ने आगामी राष्ट्रपति चुनाव के लिए झारखंड की पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू को अपना उम्मीदवार बनाया है। मंगलवार को पार्टी मुख्यालय में हुई भाजपा की संसदीय बोर्ड की बैठक में यह फैसला लिया गया।

राष्ट्रपति पद के लिए द्रौपदी मुर्मू के नाम की घोषणा करते हुए भाजपा प्रमुख जेपी नड्डा ने कहा कि पहली बार किसी महिला आदिवासी प्रत्याशी को वरीयता दी गई है। उन्होंने कहा, “हम आगामी राष्ट्रपति चुनाव के लिए द्रौपदी मुर्मू को एनडीए के उम्मीदवार के रूप में घोषित करते हैं।”

यदि द्रौपदी मुर्मू निर्वाचित होती  हैं तो वोभारत की पहली आदिवासी और देश की दूसरी महिला राष्ट्रपति होंगी।

कौन हैं द्रौपदी मुर्मू

द्रौपदी मुर्मू का जन्म 20 जून 1958 को ओडिशा के मयूरभंज जिले के बैदापोसी गांव में हुआ था। उनके पिता का नाम बिरंची नारायण टुडू है। वह एक आदिवासी जातीय समूह संथाल परिवार से ताल्लुक रखती हैं।

ओडिशा के आदिवासी परिवार में जन्मीं द्रौपदी मुर्मू झारखंड की नौवीं राज्यपाल बनी थीं।

राजनीतिज्ञ होने के अलावा वह अनुसूचित जनजाति समुदाय से आती हैं। राज्यपाल बनने से पहले वह भारतीय जनता पार्टी की सदस्य रही हैं। यही नहीं द्रौपदी मुर्मू साल 2000 में गठन के बाद से पांच साल का कार्यकाल (2015-2021) पूरा करने वाली झारखंड की पहली राज्यपाल हैं।

द्रौपदी मुर्मू का जीवन बहुत ही संघर्षमय रहा।उन्होंने 1997 में एक पार्षद के रूप में चुनाव जीतकर अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत की थी।रायरंगपुर से भाजपा के टिकट पर दो बार विधायक (2000 और 2009) रहीं। मुर्मू को 2007 में ओडिशा विधानसभा द्वारा वर्ष के सर्वश्रेष्ठ विधायक के लिए नीलकंठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उन्हें ओडिशा सरकार में परिवहन, वाणिज्य, मत्स्य पालन और पशुपालन मंत्रालयों में अनुभव है।

हैदराबादी पनीर बनाने का आसान तरीका। Hyderabadi Paneer Recipe in Hindi