भारतविशेष

Ramayan : रामायण में किस योद्धा ने नींद त्याग कर,14 वर्ष तक बिना सोए रहे ?

जब भगवान श्री राम राजपाट त्याग कर वनवास को प्रस्थान किए तब माता सीता और उनके भाई लक्ष्मण भी उनके साथ थे। अपने वनवास के दौरान लक्ष्मण ने 14 वर्षों तक अपने भाई श्रीराम और माता सीता की निस्वार्थ सेवा की। ऐसी मानयता है की, जब भगवान राम और माता सीता अपनी कुटिया में विश्राम कर रहे थे तो कुटिया के बाहर लक्ष्मण पहरा देते थे। लक्ष्मण ने अपनी नींद त्याग दी और 14 वर्ष तक बिना सोए रहे।

Laxman remained without sleep for 14 years
Laxman remained without sleep for 14 years

भगवान राम की सेवा करने के लिए, लक्ष्मण ने नींद की देवी (निद्रा देवी) से वरदान मांगा कि वह पूरे 14 साल के वनवास के दौरान सो नहीं सके। नींद की देवी ने लक्ष्मण को वरदान दिया, लेकिन शर्त रखी कि उनकी पत्नी उर्मिला को लक्ष्मण के बजाय 14 साल तक सोना होगा। इसलिए लक्ष्मण की जगह उनकी पत्नी उर्मिला 14 साल तक राज महल में सोती रहीं।

Disclaimer : यह जानकारी विभिन्न वेबसाइटों से जुटाई गई है। यह पोस्ट पाठक के सामान्य ज्ञान के लिए प्रकाशित किया गया है। 

जरूर पढिए

Back to top button
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker!